1. Posts tagged as: Festivals

जय अम्बे गौरी, मैया जय श्यामा गौरी तुम को निस दिन ध्यावत मैयाजी को निस दिन ध्यावत हरि ब्रह्मा शिवजी । बोलो जय अम्बे गौरी ॥ माँग सिन्दूर विराजत टीको मृग मद को उज्ज्वल से दो नैना चन्द्रवदन नीको बोलो जय अम्बे गौरी ॥

Read More »

आरती श्री रामायणजी की । कीरति कलित ललित सिय पी की ॥ गावत ब्रह्मादिक मुनि नारद । बालमीक बिग्यान बिसारद ॥ सुक सनकादि सेष और सारद । बरन पवन्सुत कीरति नीकी ॥

Read More »

ॐ जय शिव औंकारा, स्वामी हर शिव औंकारा । ब्रह्मा विष्णु सदाशिव अर्धांगी धारा ॥ जय शिव औंकारा ॥ एकानन चतुरानन पंचानन राजे स्वामी पंचानन राजे । हंसासन गरुड़ासन वृष वाहन साजे ॥ जय शिव औंकारा ॥ दो भुज चारु चतुर्भुज दस भुज से सोहे स्वामी दस भुज [...]

Read More »

आरती कुँज बिहारी की श्री गिरिधर कृष्ण मुरारी की ॥ गले में वैजन्ती माला, बजावे मुरली मधुर बाला, श्रवण में कुण्डल झलकाला, नन्द के नन्द, श्री आनन्द कन्द, मोहन ब„⣞ज चन्द राधिका रमण बिहारी की श्री गिरिधर कृष्ण मुरारी की ॥

Read More »

आरति कीजै हनुमान लला की . दुष्ट दलन रघुनाथ कला की .. जाके बल से गिरिवर काँपे रोग दोष जाके निकट न झाँके .अंजनि पुत्र महा बलदायी संतन के प्रभु सदा सहायी ..आरति कीजै हनुमान लला की .दे बीड़ा रघुनाथ पठाये लंका जाय सिया सुधि लाये .लंका स कोटि समुद[...]

Read More »

ॐ जय जगदीश हरे, स्वामी जय जगदीश हरे भक्त जनों के संकट, दास जनों के संकट, क्षण में दूर करे ||  जो ध्यावे फल पावे, दुख बिनसे मन का स्वामी दुख बिनसे मन का सुख सम्पति घर आवे, कष्ट मिटे तन का ||ॐ जय जगदीश हरे ||मात पिता तुम मेरे, शरण गहूं म[...]

Read More »

ॐ जय लक्ष्मी माता,  मैया जय लक्ष्मी माता । तुमको निशदिन सेवत, हर विष्णु विधाता ॥ उमा, रमा, ब्रह्माणी, तुम ही हो जग-माता । सूर्य चन्द्रमा ध्यावत, नारद ऋषि गाता ॥ ॐ जय लक्ष्मी माता ॥ दुर्गा रुप निरंजनि, सुख-सम्पत्ति दाता । जो को‌[...]

Read More »

Latest Posts