Papmochani ekadashi vrat katha vidhi (पापमोचनी एकादशी वत कथा विधि)

November 5, 2008

पुराणों के अनुसार चैत्र कृष्ण पक्ष की एकादशी पाप मोचिनी है (Chaitra kirshna paksha Ekadashi know as Papmochani Ekadashi) अर्थात पाप को नष्ट करने वाली. स्वयं भगवान श्री कृष्ण ने इसे अर्जुन से कहा है. पाप मोचनी एकादशी व्रत कथा (Papmochni Ekadasi Vrat Katha) कथा के अनुसार भगवान अर्जुन से कहते हैं, राजा मान्धाता ने [...]

Read the full article →

Parma Ekadashi Vrat vidhi katha (परमा हरिवल्लभा एकादशी व्रत विधि एवं कथा)

November 4, 2008

अधिक मास में कृष्ण पक्ष में जो एकादशी आती है वह हरिवल्लभा अथवा परमा एकदशी के नाम से जानी जाती है ऐसा श्री कृष्ण ने अर्जुन से कहा है (additional months krishna paksha Parma Ekadashi). भगवान श्री कृष्ण ने अर्जुन को इस व्रत की कथा व विधि भी बताई थी. भगवान में श्रद्धा रखने वाले [...]

Read the full article →

Holi Colour festival (होली रंगोत्सव)

November 3, 2008

होली कथा (Holi katha) होली का त्यहार भारतवर्ष में अति प्रचीन काल से मनाया जाता आ रहा है. इतिहास की दृष्टि से देखें तो यह वैदिक काल से मनाया जाता आ रहा है. हिन्दु मास के अनुसार होली के दिन से नये संवत् की शुरूआत होती है. चैत्र कृष्ण प्रतिपदा के दिन धरती पर प्रथम [...]

Read the full article →

Mahashivratri Parv katha vrat (महाशिवरात्रि पर्व कथा व्रत)

November 2, 2008

महाशिवरात्रि व्रत कथा (Mahashivratri Vrat Katha): महाशिवरात्रि का व्रत फाल्गुन महीने में कृष्ण पक्ष की चतुर्दशी को रखा जाता है ( Falgun Krishna Paksha Chaturdashi tithi Mahashivratri)। शिवरात्रि न केवल व्रत है, बल्कि त्यहार और उत्सव भी है. इस दिन भगवान भोलेनाथ का कालेश्वर रूप प्रकट हुआ था. महाकालेश्वर शिव की वह शक्ति हैं जो [...]

Read the full article →

Holika Dahan Katha vidhi (होली में होलिका दहन की कथा विधि)

November 2, 2008

होली और प्रह्लाद की कथा ( holi Prahalad katha) होली की पूर्व संध्या में होलिका दहन किया जाता है. इसके पीछे एक प्राचीन कथा है कि दीति के पुत्र हिरण्यकश्यपु भगवान विष्णु से घोर शत्रुता रखता था . इसने अपनी शक्ति के घमंड में आकर स्वयं को ईश्वर कहना शुरू कर दिया और घोषणा कर [...]

Read the full article →

Varah Dwadashi vrat katha vidhi.(वाराह द्वादशी व्रत कथा विधि्)

November 2, 2008

वाराह द्वादशी महात्मय (Varah Dwadsi mahatmya) जगत के कल्याण हेतु जो लीलाधारी भगवान अनेकानेक अवतार लेते हैं इन्हीं भगवान विष्णु के तृतीय अवतार वराह की पूजा माघ शुक्ल द्वादशी के दिन की जाती है जो वराह द्वादशी के नाम से जानी जाती है (Magha Shukla Dwadashi vrat). वराह भगवान का यह व्रत सुख, सम्पत्ति दायक [...]

Read the full article →

Maghi Purnima Ganga Snan (माघी पूर्णिमा गंगा स्नान)

November 2, 2008

माघ शुक्ल पूर्णिमा स्नान महत्व (Maghi Shukla Purnima Snan): माघ शुक्ल पक्ष की पूर्णिमा जिसे लोक भाषा में माघी पूर्णिमा भी कहते हैं बहुत ही पुण्यदायिनी कही गयी है (Maghi Shukla Paksha Purnima Maghi Poornima). मान्यताओं के अनुसार इस दिन सूर्योदय से पूर्व जल में भगवान का तेज मजूद रहता है, देवताओं का यह तेज [...]

Read the full article →

Amalaki Ekadashi vrat katha vidhi (आमलकी एकादशी व्रत कथा विधि)

November 1, 2008

आमलकी एकादशी महात्मय (Amalaki Ekadashi Mahatmya) प्रकृति से मानव का सम्बन्ध आदि काल से है. मनुष्य सृष्टि के प्रारम्भ से ही प्रकृति की उपासना करता आ रहा है. वृक्ष में देवताओं का वास मानकर वृक्ष की उपासना भी की जाती रही है. पीपल और आंवले के वृक्ष को देवतुल्य मानकर उनकी आराधाना की जाती रही [...]

Read the full article →

Vijya Ekadashi Vrat katha vidhi (विजय एकादशी व्रत कथा विधि)

November 1, 2008

विजया एकादशी महात्मय (Vijya Ekadasi Mahatmya) विजया एकादशी अपने नामानुसार विजय प्रादन करने वाली है। भयंकर शत्रुओं से जब आप घिरे हों और पराजय सामने खड़ी हो उस विकट स्थिति में विजया नामक एकादशी आपको विजय दिलाने की क्षमता रखती है। प्राचीन काल में कई राजे महाराजे इस व्रत के प्रभाव से अपनी निश्चित हार [...]

Read the full article →

Magha Shukla Saptami vrat Katha vidhi (माघ शुक्ल सप्तमी है व्रत कथा विधि)

October 28, 2008

सूर्य सप्तमी व्रत महिमा (Surya Saptami vrat Mahima): माघ शुक्ल सप्तमी का व्रत सूर्य देवता को समर्पित है. सूर्य को शास्त्रों एवं पुराण में आरोग्यदायक कहा गया है. सूर्य की उपासना से रोग मुक्ति का जिक्र कई स्थानों पर आया है. इस व्रत को करने वालों के रोग ठीक हो जाते हैं. त्वचा सम्बन्धी रोग [...]

Read the full article →