Hanuman Ji ki Arti – हनुमान जी की आरती

by Acharya Shashikant on December 17, 2008 · 6 comments

in Arti

hanuman_ji_495692523.jpg

 

आरति कीजै हनुमान लला की .
दुष्ट दलन रघुनाथ कला की ..

जाके बल से गिरिवर काँपे
रोग दोष जाके निकट न झाँके .
अंजनि पुत्र महा बलदायी
संतन के प्रभु सदा सहायी ..
आरति कीजै हनुमान लला की .

दे बीड़ा रघुनाथ पठाये
लंका जाय सिया सुधि लाये .
लंका स कोटि समुद्र सी खाई
जात पवनसुत बार न लाई ..
आरति कीजै हनुमान लला की .

लंका जारि असुर संघारे
सिया रामजी के काज संवारे .
लक्ष्मण मूर्छित पड़े सकारे
आन संजीवन प्राण उबारे ..
आरति कीजै हनुमान लला की .

पैठि पाताल तोड़ि यम कारे
अहिरावन की भुजा उखारे .
बाँये भुजा असुरदल मारे
दाहिने भुजा संत जन तारे ..
आरति कीजै हनुमान लला की .

सुर नर मुनि जन आरति उतारे
जय जय जय हनुमान उचारे .
कंचन थार कपूर ल छाई
आरती करति अंजना माई ..
आरति कीजै हनुमान लला की .

जो हनुमान जी की आरति गावे
बसि वैकुण्ठ परम पद पावे .
आरति कीजै हनुमान लला की .
दुष्ट दलन रघुनाथ कला की ..

{ 6 comments… read them below or add one }

DHARAMVEER KUMAR September 30, 2010 at 10:27 am

aa

Reply

shailender singh November 16, 2010 at 5:41 pm

arti

Reply

harish kumar October 24, 2011 at 11:18 am

jai jai shri hanuman

Reply

anil thakur January 24, 2014 at 6:20 pm

jai jai shreeram

Reply

happy May 12, 2015 at 6:45 am

mangalwaar vrat main kya aur kab khan hota hai

Reply

happy May 12, 2015 at 6:46 am

mangalvaar ke vrat main kya kay aur kab kha sakte hai aur ann kab kha sakte hai isme

Reply

Leave a Comment

Previous post:

Next post: