आत्मा की अमरता के सिद्धान्त को तो स्वयं भगवान श्री कृष्ण गीता में उपदेशित करते हैं. आत्मा जब तक अपने परम+आत्मा से संयोग नहीं कर लेता तब तक विभिन्न योनियों में भटकता है और[...]

Read More »

देवी ब्रह्मचारिणी ( Devi Brahmachariani) का स्वरूप उनके नामनुसार ही तपस्विनी जैसा है. माता के इस रूप एवं उनकी भक्ति के मार्ग पर जब हम आगे बढ़ रहे हैं तो आइये मईया की महिम[...]

Read More »

किसी भी रूप में देखा जाय तो यह हिन्दु समाज का एक महत्वपूर्ण त्यहार है जिसका धार्मिक, अध्यात्मिक, नैतिक व सांसारिक इन चारों ही दृष्टिकोण से काफी महत्व है. भक्त जन इस अवसर [...]

Read More »




Latest Posts