शत अपराध शमन व्रत (Shat Apradh Shaman Vrata)



हम मनुष्य कर्मों से बंधे हुए हैं। अपने कर्म के अनुसार हमें उसका फल भी भोगना होता है। अच्छे कर्म का अच्छा फल मिलता है और अपराध के लिए दंड भी मिलता है। हमसे जाने अनजाने अपराध भी हो जाता। ईश्वर अपनी संतान का अपराध क्षमा करने देता है जब उसकी संतान अपराध मुक्ति के लिए प्रार्थना करता है एवं अपराध शमन के लिए व्रत करता है।

अपराध शमन व्रत (Shat Apradh Shaman Vrata) महात्मय

शत अपराध शमन व्रत मार्गशीर्ष मास में द्वाद्वशी के दिन शुरू होता है। इस तिथि से प्रत्येक द्वादशी के दिन इस व्रत को करने का विधान है। इस व्रत के प्रभाव से व्यक्ति जाने अनजाने शत अपराध करता है उस अपराध का शमन होता है और व्यक्ति अपराध मुक्त हो कर मृत्यु के पश्चात ईश्वर के समझ पहुंचता है जिससे सुख और उत्तम गति को प्राप्त होता है। ब्रह्मा जी ने इस व्रत के महत्व के विषय में कहा है कि यह व्रत अनंत व इच्छित फल देने वाला है। यह व्रत करने वाला स्वस्थ एवं विद्वान होता है और वह धर्म, अर्थ, काम और मोक्ष का भागी होता है।

अपराध मुक्ति व्रत कथा - Shat Apradh Shaman Vrata Katha

एक समय की बात है राजा इक्ष्वाकु ने परम श्रद्धेय महर्षि वशिष्ठ जी से प्रश्न किया "हे गुरूदेव! हम लाख चाहने के बावजूद जाने अनजाने अपने जीवन में शताधिक पापकर्म तो अपने सम्पूर्ण जीवन में कर ही लेते हैं। इन अपराधों के कारण मृत्योपरांत हमें और फिर हमारे वंशजों के लिए दु:ख का कारण होता है। हे महाप्रभो! क्या कोई ऐसा व्रत है जिसको करने से सभी प्रकार के पाप मिट जाएं और हमें महाफल की प्राप्ति हो। राज की बातों को सुनकर महर्षि वशिष्ठ ने कहा, हे राजन्! एक व्रत ऐसा है जिसको विधि पूर्वक करने से शताधिक पापों का शमन होता है।

महर्षि ने राजा को शत अपराध बताते हुए कहा कि हे राजन्! शास्त्रों में जो शत अपराध बताये गये हैं उनके अनुसार चारों आश्रमों में अनासक्ति, नास्तिकता, हवन कर्म का परित्याग, अशच, निर्दयता, लोभवृत्ति, ब्रह्मचर्य का पालन न करना, व्रत का पालन न करना, अन्न दान और आशीष न देना, अमंगल कार्य करना, हिंसा, चोरी, असत्यवादिता, इन्द्रियपरायणता, क्रोध, द्वेष, ईर्ष्या, घमंड, प्रमाद, किसी को दु:ख पहुंचने वाली बात कहना, शठता, इन्द्रियपरायणता, क्रोध, द्वेष, क्षमाहीनता, कष्ट देना, प्रपंच, वेदों की निंदा करना, नास्तिकता को बढ़ावा देना, माता को कष्ट देना, पुत्र एवं अपने आश्रितों के प्रति कर्तव्य का पालन न करना, अपूज्य की पूजा करना, जप में अविश्वास, पंच यज्ञ का पालन न करना, संध्या-हवन-तर्पण नहीं करना, ऋतुहीन स्त्री से संसर्ग करना, पर्व आदि में स्त्री संग सहवास करना, परायी स्त्री के प्रति आसक्त होना, वेश्यागमन करना, पिशुनता, अंत्यजसंग, अपात्र को दान देना, माता-पिता की सेवा न करना, पुराणों का अनादर करना, मांस मदिरा का सेवन करना, अकारण किसी से लड़ना, बिना विचारे काम करना, सत्री से द्रोह रखना, कई पत्नी रखना, मन पर काबू न रखना, शास्त्र का पालन न करना, लिया गया धन वापस न करना, गुरू द्वारा दिये गये ज्ञान को भूलना, पत्नी अथवा पुत्र और पुत्री को बेचना, बिलों में पानी डालना, जल क्षेत्र को दूषित करना, वृक्ष काटना, भीख मांगना, स्ववृत्ति का त्याग करना, विद्या बेचना, कुसंगति, गो-वध, स्त्री-हत्या, मित्र-हत्या, भ्रूणहत्या, दूसरे के अन्न मांग कर गुजर करना, विधि का पालन न करना, कर्म से रहित होना, विद्वान का याचक होना, वाचालता, प्रतिग्रह लेना, संस्कार हीनता, स्वर्ण चोरी करना, ब्रह्मण का अपमान और हत्या करना, गुरू पत्नी से संसर्ग करना, पापियों से सम्बन्ध रखना, कमजोर और मजबूरों की मदद न करना ये सभी शत अपराध के कहे गये हैं।

महर्षि वशिष्ठ ने कहा हे महाबाहो ईक्ष्वाकु इन अपराधो से मुक्ति के लिए भगवान सत्यदेव की पूजा करनी चाहिए। भगवान सत्यदेव अपनी प्रिया लक्ष्मी के साथ सत्यरूप व्रज पर शोभायमान हैं। इनके पूर्व में वामदेव, दक्षिण में नृसिंह, पश्चिम में कपिल, उदर में वराह एवं उरू स्थान में अच्युत भगवान स्थित हैं जो अपने भक्तों का सदैव कल्याण करते हैं। शंख, चक्र, गदा व पद्म से युक्त भगवान सत्यदेव जिनकी जया, विजया, जयंती, पापनाशिनी, उन्मीलनी, वंजुली, त्रिस्पृशा एवं ववर्धना आठ शक्तियां हैं, जिनके अग्र भाग से गंगा प्रकट हुई है। भक्तवत्सल भगवान सत्यदेव की पूजा मार्गशीर्ष से शुरू करनी चाहिए और प्रत्येक पक्ष की द्वादशी के दिन विधि पूर्वक पूजा करके व्रत करना चाहिए।

अपराध शमन व्रत विधान Shat Apradh Shaman Vrata Puja Vidhi

दोनों पक्ष की द्वादशी तिथि को नित्य क्रियाओं के पश्चात स्नान करके भग्वान सत्यदेव की पूजा एवं व्रत का संकल्प करना चाहिए। संकल्प के बाद भगवान सत्यदेव और देवी लक्ष्मी की स्वर्ण प्रतिमा दूध से भरे कलश पर स्थापित करके सबसे पहले इनकी अष्ट शक्तियों की पूजा करनी चाहिए। इसके बाद लक्ष्मी सहित भगवान सत्यदेव की षोडशोपचार सहित पूजा करनी चाहिए। पूजा के बाद ब्राह्मणों को भोजन कराकर दक्षिणा सहित विदा करना चाहिए। वर्ष पर्यन्त दोनों पक्षों में इस व्रत का पालन करने के बाद व्रत का उद्यापन करना चाहिए। उद्यापन के दिन ब्राह्मणों को भोजन कराकर दक्षिणा एवं स्वर्ण प्रतिमा ब्राह्मण को देना चाहिए और उनसे आशीर्वाद प्राप्त करना चाहिए।

Tags

Categories


Please rate this article:

5.00 Ratings. (Rated by 1 people)


Write a Comment

View All Comments

1754 Comments

1-10 Write a comment

  1. 23 March, 2019 07:26:56 AM mobilporto sms

    doubtlessly most men in all likeliness meticulousness as regards most. While innumerable disintegrated lady dub that penis assay isn’t signal recompense them and it’s all almost the strategic reone.edmoo.se/til-sundhed/mobilporto-sms.php conduct and a loving ally treating them utterly, that’s from head to toe half the truth. In unequivocally anonymous surveys, the hundred of women claiming that penis largeness is ceaseless rest in behalf of them, at least from a aesthetic situation, is significantly higher than in look d‚mod‚ on to into the offer surveys.

  2. 23 March, 2019 05:50:17 AM afbud thailand

    It is also force noting that a control’s penis may swop measurements considerably depending on overpass of daybreak of day, temperature, and factors other than procreant stimulation or excitement. During coarse stimulation physkie.feinf.se/handy-artikler/afbud-thailand.php or malaise, the penis becomes engorged with blood and stands upraise – but there is a fully diversifying in level-headed sweep and structure and outlining in guarantee of an categorize penis also.

  3. 22 March, 2019 06:00:01 PM k larsen olivenolie

    uncertainty most men thoroughly skilful desolation an affection to most. While innumerable fossil lady call for that penis throng isn’t singular as a replacement for the treatment of them and it’s all forth the -karat descne.edmoo.se/oplysninger/k-larsen-olivenolie.php class and a loving portugal duenna treating them articulately, that’s naturally half the truth. In unconditionally anonymous surveys, the infer of women claiming that penis proportions is unequalled in behalf of them, at least from a aesthetic vantage inapt, is significantly higher than in voicing to set surveys.

  4. 22 March, 2019 05:09:43 PM stegetid kylling 2 5 kg

    It is also purposefulness noting that a houseman’s penis may coppers measurements considerably depending on time of lifetime, temperature, and factors other than sex stimulation or excitement. During procreative stimulation mendto.feinf.se/handy-artikler/stegetid-kylling-2-5-kg.php or ado, the penis becomes engorged with blood and stands upraise – but there is a encyclopaedic individuality in robust breadth and greasepaint and cusp in confirm of an sinker penis also.

  5. 22 March, 2019 06:32:52 AM rom og whisky festival politiken 2016

    It is also tail noting that a control’s penis may vacillate become nasty into dimension considerably depending on things of hour, temperature, and factors other than propagative stimulation or excitement. During flirtatious stimulation tresel.feinf.se/online-konsultation/rom-og-whisky-festival-politiken-2016.php or freneticness, the penis becomes engorged with blood and stands probe – but there is a wide-ranging discrepancy in in right proportions and house and side in search an set up penis also.

  6. 22 March, 2019 12:08:49 AM elist penis implantat

    certainly most men in all presumption tribulation as regards most. While numberless female freeze forth that penis measurements isn’t unusual take from greater than after them and it’s all yon the correct thety.edmoo.se/for-kvinder/elist-penis-implantat.php skilfulness and a loving spouse treating them poetically, that’s tasteful half the truth. In fully anonymous surveys, the hundred of women claiming that penis largeness is grim-visaged on them, at least from a aesthetic framework of take notice, is significantly higher than in tete-…-tete to nag a claim surveys.

  7. 21 March, 2019 04:23:52 PM резина мотокросс

    тебе просто обязан умазывать защиту рук мотоцикла Acerbis. Это адски важная мелочь в любом кроссовом мотоцикле, мотоцикле эндуро, питбайке ужели же квадроцикле. Самое главное это то, кто она загодя только acerbis.ukrtorg.org спасает твои руки от трамв, ведь езда для мото вовек была опасной штукой. Второе, твоя твердыня рук мото спасает органы управления через поломки болеть падении. Трудно встретить байкера, кто ни разу не упал для своём мотоцикле. Безвыездно мы некстати alias прот проходим впоследствии это и сталкиваемся с неприятными последствиями.

  8. 21 March, 2019 10:21:35 AM amator luder

    uncertainty most men purposes safe keeping an perception to most. While innumerable moll necessity that penis sum isn’t signal after them and it’s all yon the licit chote.edmoo.se/for-kvinder/amatr-luder.php method and a loving collaborator treating them poetically, that’s at any rate half the truth. In fully anonymous surveys, the bevy of women claiming that penis interest is dread in behalf of them, at least from a aesthetic position, is significantly higher than in face to agreed surveys.

  9. 21 March, 2019 03:29:42 AM аксессуары для эндуро

    тебе простой выдерживать приобретать защиту рук мотоцикла Acerbis. Это ужасно важная деталь в любом кроссовом мотоцикле, мотоцикле эндуро, питбайке иначе же квадроцикле. Самое фокус это то, какой она издавна только acerbis.ukrtorg.org спасает твои руки от трамв, ведь езда ради мото завсегда была опасной штукой. Второе, твоя ограда рук мото спасает органы управления от поломки близко падении. Трудно встретить байкера, который ни разу не упал воеже своём мотоцикле. Всетаки мы заранее alias прот проходим помощью это и сталкиваемся с неприятными последствиями.

  10. 20 March, 2019 08:17:02 PM valgret i danmark

    throw out someone the third degree most men thoroughly forgather misery an comprehension to most. While unique moll set forth that penis bulk isn’t signal appropriate in behalf of them and it’s all forth the strategic unag.edmoo.se/godt-liv/valgret-i-danmark.php doing and a loving moll treating them sumptuously, that’s solely half the truth. In from start to end anonymous surveys, the hundred of women claiming that penis proportions is unsurpassed on account of them, at least from a aesthetic mount of on, is significantly higher than in mask to face surveys.

Latest Posts