शत अपराध शमन व्रत (Shat Apradh Shaman Vrata)



हम मनुष्य कर्मों से बंधे हुए हैं। अपने कर्म के अनुसार हमें उसका फल भी भोगना होता है। अच्छे कर्म का अच्छा फल मिलता है और अपराध के लिए दंड भी मिलता है। हमसे जाने अनजाने अपराध भी हो जाता। ईश्वर अपनी संतान का अपराध क्षमा करने देता है जब उसकी संतान अपराध मुक्ति के लिए प्रार्थना करता है एवं अपराध शमन के लिए व्रत करता है।

अपराध शमन व्रत (Shat Apradh Shaman Vrata) महात्मय

शत अपराध शमन व्रत मार्गशीर्ष मास में द्वाद्वशी के दिन शुरू होता है। इस तिथि से प्रत्येक द्वादशी के दिन इस व्रत को करने का विधान है। इस व्रत के प्रभाव से व्यक्ति जाने अनजाने शत अपराध करता है उस अपराध का शमन होता है और व्यक्ति अपराध मुक्त हो कर मृत्यु के पश्चात ईश्वर के समझ पहुंचता है जिससे सुख और उत्तम गति को प्राप्त होता है। ब्रह्मा जी ने इस व्रत के महत्व के विषय में कहा है कि यह व्रत अनंत व इच्छित फल देने वाला है। यह व्रत करने वाला स्वस्थ एवं विद्वान होता है और वह धर्म, अर्थ, काम और मोक्ष का भागी होता है।

अपराध मुक्ति व्रत कथा - Shat Apradh Shaman Vrata Katha

एक समय की बात है राजा इक्ष्वाकु ने परम श्रद्धेय महर्षि वशिष्ठ जी से प्रश्न किया "हे गुरूदेव! हम लाख चाहने के बावजूद जाने अनजाने अपने जीवन में शताधिक पापकर्म तो अपने सम्पूर्ण जीवन में कर ही लेते हैं। इन अपराधों के कारण मृत्योपरांत हमें और फिर हमारे वंशजों के लिए दु:ख का कारण होता है। हे महाप्रभो! क्या कोई ऐसा व्रत है जिसको करने से सभी प्रकार के पाप मिट जाएं और हमें महाफल की प्राप्ति हो। राज की बातों को सुनकर महर्षि वशिष्ठ ने कहा, हे राजन्! एक व्रत ऐसा है जिसको विधि पूर्वक करने से शताधिक पापों का शमन होता है।

महर्षि ने राजा को शत अपराध बताते हुए कहा कि हे राजन्! शास्त्रों में जो शत अपराध बताये गये हैं उनके अनुसार चारों आश्रमों में अनासक्ति, नास्तिकता, हवन कर्म का परित्याग, अशच, निर्दयता, लोभवृत्ति, ब्रह्मचर्य का पालन न करना, व्रत का पालन न करना, अन्न दान और आशीष न देना, अमंगल कार्य करना, हिंसा, चोरी, असत्यवादिता, इन्द्रियपरायणता, क्रोध, द्वेष, ईर्ष्या, घमंड, प्रमाद, किसी को दु:ख पहुंचने वाली बात कहना, शठता, इन्द्रियपरायणता, क्रोध, द्वेष, क्षमाहीनता, कष्ट देना, प्रपंच, वेदों की निंदा करना, नास्तिकता को बढ़ावा देना, माता को कष्ट देना, पुत्र एवं अपने आश्रितों के प्रति कर्तव्य का पालन न करना, अपूज्य की पूजा करना, जप में अविश्वास, पंच यज्ञ का पालन न करना, संध्या-हवन-तर्पण नहीं करना, ऋतुहीन स्त्री से संसर्ग करना, पर्व आदि में स्त्री संग सहवास करना, परायी स्त्री के प्रति आसक्त होना, वेश्यागमन करना, पिशुनता, अंत्यजसंग, अपात्र को दान देना, माता-पिता की सेवा न करना, पुराणों का अनादर करना, मांस मदिरा का सेवन करना, अकारण किसी से लड़ना, बिना विचारे काम करना, सत्री से द्रोह रखना, कई पत्नी रखना, मन पर काबू न रखना, शास्त्र का पालन न करना, लिया गया धन वापस न करना, गुरू द्वारा दिये गये ज्ञान को भूलना, पत्नी अथवा पुत्र और पुत्री को बेचना, बिलों में पानी डालना, जल क्षेत्र को दूषित करना, वृक्ष काटना, भीख मांगना, स्ववृत्ति का त्याग करना, विद्या बेचना, कुसंगति, गो-वध, स्त्री-हत्या, मित्र-हत्या, भ्रूणहत्या, दूसरे के अन्न मांग कर गुजर करना, विधि का पालन न करना, कर्म से रहित होना, विद्वान का याचक होना, वाचालता, प्रतिग्रह लेना, संस्कार हीनता, स्वर्ण चोरी करना, ब्रह्मण का अपमान और हत्या करना, गुरू पत्नी से संसर्ग करना, पापियों से सम्बन्ध रखना, कमजोर और मजबूरों की मदद न करना ये सभी शत अपराध के कहे गये हैं।

महर्षि वशिष्ठ ने कहा हे महाबाहो ईक्ष्वाकु इन अपराधो से मुक्ति के लिए भगवान सत्यदेव की पूजा करनी चाहिए। भगवान सत्यदेव अपनी प्रिया लक्ष्मी के साथ सत्यरूप व्रज पर शोभायमान हैं। इनके पूर्व में वामदेव, दक्षिण में नृसिंह, पश्चिम में कपिल, उदर में वराह एवं उरू स्थान में अच्युत भगवान स्थित हैं जो अपने भक्तों का सदैव कल्याण करते हैं। शंख, चक्र, गदा व पद्म से युक्त भगवान सत्यदेव जिनकी जया, विजया, जयंती, पापनाशिनी, उन्मीलनी, वंजुली, त्रिस्पृशा एवं ववर्धना आठ शक्तियां हैं, जिनके अग्र भाग से गंगा प्रकट हुई है। भक्तवत्सल भगवान सत्यदेव की पूजा मार्गशीर्ष से शुरू करनी चाहिए और प्रत्येक पक्ष की द्वादशी के दिन विधि पूर्वक पूजा करके व्रत करना चाहिए।

अपराध शमन व्रत विधान Shat Apradh Shaman Vrata Puja Vidhi

दोनों पक्ष की द्वादशी तिथि को नित्य क्रियाओं के पश्चात स्नान करके भग्वान सत्यदेव की पूजा एवं व्रत का संकल्प करना चाहिए। संकल्प के बाद भगवान सत्यदेव और देवी लक्ष्मी की स्वर्ण प्रतिमा दूध से भरे कलश पर स्थापित करके सबसे पहले इनकी अष्ट शक्तियों की पूजा करनी चाहिए। इसके बाद लक्ष्मी सहित भगवान सत्यदेव की षोडशोपचार सहित पूजा करनी चाहिए। पूजा के बाद ब्राह्मणों को भोजन कराकर दक्षिणा सहित विदा करना चाहिए। वर्ष पर्यन्त दोनों पक्षों में इस व्रत का पालन करने के बाद व्रत का उद्यापन करना चाहिए। उद्यापन के दिन ब्राह्मणों को भोजन कराकर दक्षिणा एवं स्वर्ण प्रतिमा ब्राह्मण को देना चाहिए और उनसे आशीर्वाद प्राप्त करना चाहिए।

Tags

Categories


Please rate this article:

5.00 Ratings. (Rated by 1 people)


Write a Comment

View All Comments

4609 Comments

1-10 Write a comment

  1. 21 January, 2020 12:12:20 PM installer newtown casino online

    I have read so many posts regarding the blogger lovers except this piece of writing is truly a nice post, keep it up. https://ux.nu/ArTZF

  2. 21 January, 2020 02:01:08 AM Allenvaw

    https://loveawake.ru - Знакомства Schonau im Schwarzwald. Сайт знакомств Schonau im Schwarzwald бесплатно, без регистрации, для серьезных отношений.

  3. 20 January, 2020 10:04:36 PM iesmclcgk

    ничего особенного

  4. 20 January, 2020 01:31:31 PM Michaelbeedo

    CKG Sand Scoop For Beach Metal Detecting 1.5 Mm Stainless Steel. https://ckgscoop.com/ Fast Sifting Tool Shovel For Treasure Hunting Designed With 8mm Round Holes + Plastic Handle

  5. 20 January, 2020 03:00:18 AM casino slot games to download for free

    This provides this website with a boost in traffic. This total doesn't obviously count the particular pages in other languages. There are many article directories on the world Widee Earth. http://kiss.kir.jp/home/bbs/clever.cgi

  6. 20 January, 2020 03:00:12 AM casino slot games to download for free

    This provides this website with a boost in traffic. This total doesn't obviously count the particular pages in other languages. There are many article directries on the wrld Wiide Earth. http://kiss.kir.jp/home/bbs/clever.cgi

  7. 20 January, 2020 01:20:20 AM Daisy

    web cam sexo gratis fotos pornos videos sexo guarro porno orientales imagen sexo sexo en ubeda porno sadomasoquismo comics porno 3d sexo lesbianas porno abuelas gordas stripers porno maduras sexo duro contactos con mujeres separadas sexo en ronda malaga novela porno porno de ancianas porno gay pillados primer anal porno el mejor sexo oral sexo gratis madrid porno para moviles video porno xxx gratis encuentro sexual busco chica para amistad resident evil porno foro sexo barcelona videos porno de castings sexo de trios sexo gratis contactos porno gratis negras conocer gente online gratis videos porno de transexuales gratis sexo en manacor cuanto cobra una actriz porno posiciones del sexo revistas pornograficas contactos mujeres teruel chica busca chico manresa chico busca chico en cartagena porno rama videos sexo por dinero maduras busca chico madres e hijas porno vedeos porno gratis sexo en marrakech anal sexo mejor actriz porno del mundo porno joven gratis busco chica en sevilla videos porno japoneses videos fiestas porno

  8. 19 January, 2020 03:21:07 PM unblockedgames66

    What is unblocked games 66 https://unblockedgames66.co.uk/ as well as why are they popular among us? The idea of games sounds really enjoyable. It was fun even back when there were no video games. With the advancement of so many developments as well as technological improvements, video games have ended up being a huge part of our lives. We could see people playing games on their cellular phone, tablets, gaming consoles or computers. The truly crucial thing to see is that these video games are offered anywhere as well as can be played at any time.

  9. 19 January, 2020 02:13:56 PM Edwardblity

    Proby s Three Week Hero album Jones was already booked as the arranger and hired the others and made their live debut with the aforementioned nine-date tour of Scandinavia as the New Yardbirds before heading into London s Olympic Studios in September to record their first long-player with ace engineer and Page s longtime friend Glyn Johns. It s sold over 12 million copies and almost certainly inspired many more air guitarists the world over. Children in the Learners room must be potty trained. http://conjunngrinradthunderfire.info/vinyl-rip/we-ride-tonight-priestess-prior-to-the-fire.php BIG CACTUS CLASSIC ROCK. Wooly Bully - Sam the Sham and The Pharaohs 6. With the highly anticipated release of her second album, Whitney June 1987 , she made history as the first female artist to enter the Billboard album charts at number one.

  10. 19 January, 2020 07:40:43 AM xpmuqnqphq

    doctorate respecting or a weekly Xerosis as teratogenic on an secretive-compulsiveРІdrinking musicianship

Latest Posts