शत अपराध शमन व्रत (Shat Apradh Shaman Vrata)



हम मनुष्य कर्मों से बंधे हुए हैं। अपने कर्म के अनुसार हमें उसका फल भी भोगना होता है। अच्छे कर्म का अच्छा फल मिलता है और अपराध के लिए दंड भी मिलता है। हमसे जाने अनजाने अपराध भी हो जाता। ईश्वर अपनी संतान का अपराध क्षमा करने देता है जब उसकी संतान अपराध मुक्ति के लिए प्रार्थना करता है एवं अपराध शमन के लिए व्रत करता है।

अपराध शमन व्रत (Shat Apradh Shaman Vrata) महात्मय

शत अपराध शमन व्रत मार्गशीर्ष मास में द्वाद्वशी के दिन शुरू होता है। इस तिथि से प्रत्येक द्वादशी के दिन इस व्रत को करने का विधान है। इस व्रत के प्रभाव से व्यक्ति जाने अनजाने शत अपराध करता है उस अपराध का शमन होता है और व्यक्ति अपराध मुक्त हो कर मृत्यु के पश्चात ईश्वर के समझ पहुंचता है जिससे सुख और उत्तम गति को प्राप्त होता है। ब्रह्मा जी ने इस व्रत के महत्व के विषय में कहा है कि यह व्रत अनंत व इच्छित फल देने वाला है। यह व्रत करने वाला स्वस्थ एवं विद्वान होता है और वह धर्म, अर्थ, काम और मोक्ष का भागी होता है।

अपराध मुक्ति व्रत कथा - Shat Apradh Shaman Vrata Katha

एक समय की बात है राजा इक्ष्वाकु ने परम श्रद्धेय महर्षि वशिष्ठ जी से प्रश्न किया "हे गुरूदेव! हम लाख चाहने के बावजूद जाने अनजाने अपने जीवन में शताधिक पापकर्म तो अपने सम्पूर्ण जीवन में कर ही लेते हैं। इन अपराधों के कारण मृत्योपरांत हमें और फिर हमारे वंशजों के लिए दु:ख का कारण होता है। हे महाप्रभो! क्या कोई ऐसा व्रत है जिसको करने से सभी प्रकार के पाप मिट जाएं और हमें महाफल की प्राप्ति हो। राज की बातों को सुनकर महर्षि वशिष्ठ ने कहा, हे राजन्! एक व्रत ऐसा है जिसको विधि पूर्वक करने से शताधिक पापों का शमन होता है।

महर्षि ने राजा को शत अपराध बताते हुए कहा कि हे राजन्! शास्त्रों में जो शत अपराध बताये गये हैं उनके अनुसार चारों आश्रमों में अनासक्ति, नास्तिकता, हवन कर्म का परित्याग, अशच, निर्दयता, लोभवृत्ति, ब्रह्मचर्य का पालन न करना, व्रत का पालन न करना, अन्न दान और आशीष न देना, अमंगल कार्य करना, हिंसा, चोरी, असत्यवादिता, इन्द्रियपरायणता, क्रोध, द्वेष, ईर्ष्या, घमंड, प्रमाद, किसी को दु:ख पहुंचने वाली बात कहना, शठता, इन्द्रियपरायणता, क्रोध, द्वेष, क्षमाहीनता, कष्ट देना, प्रपंच, वेदों की निंदा करना, नास्तिकता को बढ़ावा देना, माता को कष्ट देना, पुत्र एवं अपने आश्रितों के प्रति कर्तव्य का पालन न करना, अपूज्य की पूजा करना, जप में अविश्वास, पंच यज्ञ का पालन न करना, संध्या-हवन-तर्पण नहीं करना, ऋतुहीन स्त्री से संसर्ग करना, पर्व आदि में स्त्री संग सहवास करना, परायी स्त्री के प्रति आसक्त होना, वेश्यागमन करना, पिशुनता, अंत्यजसंग, अपात्र को दान देना, माता-पिता की सेवा न करना, पुराणों का अनादर करना, मांस मदिरा का सेवन करना, अकारण किसी से लड़ना, बिना विचारे काम करना, सत्री से द्रोह रखना, कई पत्नी रखना, मन पर काबू न रखना, शास्त्र का पालन न करना, लिया गया धन वापस न करना, गुरू द्वारा दिये गये ज्ञान को भूलना, पत्नी अथवा पुत्र और पुत्री को बेचना, बिलों में पानी डालना, जल क्षेत्र को दूषित करना, वृक्ष काटना, भीख मांगना, स्ववृत्ति का त्याग करना, विद्या बेचना, कुसंगति, गो-वध, स्त्री-हत्या, मित्र-हत्या, भ्रूणहत्या, दूसरे के अन्न मांग कर गुजर करना, विधि का पालन न करना, कर्म से रहित होना, विद्वान का याचक होना, वाचालता, प्रतिग्रह लेना, संस्कार हीनता, स्वर्ण चोरी करना, ब्रह्मण का अपमान और हत्या करना, गुरू पत्नी से संसर्ग करना, पापियों से सम्बन्ध रखना, कमजोर और मजबूरों की मदद न करना ये सभी शत अपराध के कहे गये हैं।

महर्षि वशिष्ठ ने कहा हे महाबाहो ईक्ष्वाकु इन अपराधो से मुक्ति के लिए भगवान सत्यदेव की पूजा करनी चाहिए। भगवान सत्यदेव अपनी प्रिया लक्ष्मी के साथ सत्यरूप व्रज पर शोभायमान हैं। इनके पूर्व में वामदेव, दक्षिण में नृसिंह, पश्चिम में कपिल, उदर में वराह एवं उरू स्थान में अच्युत भगवान स्थित हैं जो अपने भक्तों का सदैव कल्याण करते हैं। शंख, चक्र, गदा व पद्म से युक्त भगवान सत्यदेव जिनकी जया, विजया, जयंती, पापनाशिनी, उन्मीलनी, वंजुली, त्रिस्पृशा एवं ववर्धना आठ शक्तियां हैं, जिनके अग्र भाग से गंगा प्रकट हुई है। भक्तवत्सल भगवान सत्यदेव की पूजा मार्गशीर्ष से शुरू करनी चाहिए और प्रत्येक पक्ष की द्वादशी के दिन विधि पूर्वक पूजा करके व्रत करना चाहिए।

अपराध शमन व्रत विधान Shat Apradh Shaman Vrata Puja Vidhi

दोनों पक्ष की द्वादशी तिथि को नित्य क्रियाओं के पश्चात स्नान करके भग्वान सत्यदेव की पूजा एवं व्रत का संकल्प करना चाहिए। संकल्प के बाद भगवान सत्यदेव और देवी लक्ष्मी की स्वर्ण प्रतिमा दूध से भरे कलश पर स्थापित करके सबसे पहले इनकी अष्ट शक्तियों की पूजा करनी चाहिए। इसके बाद लक्ष्मी सहित भगवान सत्यदेव की षोडशोपचार सहित पूजा करनी चाहिए। पूजा के बाद ब्राह्मणों को भोजन कराकर दक्षिणा सहित विदा करना चाहिए। वर्ष पर्यन्त दोनों पक्षों में इस व्रत का पालन करने के बाद व्रत का उद्यापन करना चाहिए। उद्यापन के दिन ब्राह्मणों को भोजन कराकर दक्षिणा एवं स्वर्ण प्रतिमा ब्राह्मण को देना चाहिए और उनसे आशीर्वाद प्राप्त करना चाहिए।

Tags

Categories


Please rate this article:

5.00 Ratings. (Rated by 1 people)


Write a Comment

View All Comments

4759 Comments

1-10 Write a comment

  1. 20 May, 2019 11:02:28 PM iojlouameqte

    Dzrt Hrx-z http://cleantalkorg4.ru/ `2019-x-21-v-b` !yu-az-c`c!

  2. 20 May, 2019 10:52:28 PM nvhoficdmogv

    Dzrt Hrx-z http://cleantalkorg4.ru/ `2019-x-21-v-b` !yu-az-c`c!

  3. 20 May, 2019 10:21:57 PM eqivsunodrzu

    http://www.jobref.de/node/2182325 http://www.jobref.de/node/2182350 http://www.jobref.de/node/2182392 http://www.jobref.de/node/2182404 http://www.jobref.de/node/2182411 http://www.jobref.de/node/2182416 http://www.jobref.de/node/2182424 http://www.jobref.de/node/2182444 http://www.jobref.de/node/2182464 http://www.jobref.de/node/2182473 http://www.jobref.de/node/2182487 http://www.jobref.de/node/2182497 http://www.jobref.de/node/2182516 http://www.jobref.de/node/2182675 http://www.jobref.de/node/2182698 http://www.jobref.de/node/2182717 http://www.jobref.de/node/2182808 http://www.jobref.de/node/2182863 http://www.jobref.de/node/2182885 http://www.jobref.de/node/2182896 http://www.jobref.de/node/2182902 http://www.jobref.de/node/2182907 http://www.jobref.de/node/2182912 http://www.jobref.de/node/2182923 http://www.jobref.de/node/2182929 http://www.jobref.de/node/2182932 http://www.jobref.de/node/2182934 http://www.jobref.de/node/2182949 http://www.jobref.de/node/2182959 http://www.jobref.de/node/2183002 http://www.jobref.de/node/2183013 http://www.jobref.de/node/2183037 http://www.jobref.de/node/2183044 http://www.jobref.de/node/2183055 http://www.jobref.de/node/2183063 http://www.jobref.de/node/2183073 http://www.jobref.de/node/2183107 http://www.jobref.de/node/2183121 http://www.jobref.de/node/2183123 http://www.jobref.de/node/2183125 http://www.jobref.de/node/2183136 http://www.jobref.de/node/2183142 http://www.jobref.de/node/2183168 http://www.jobref.de/node/2183173 http://www.jobref.de/node/2183186 http://www.jobref.de/node/2183206 http://www.jobref.de/node/2183212 http://www.jobref.de/node/2183224 http://www.jobref.de/node/2183300 http://www.jobref.de/node/2183314 http://www.jobref.de/node/2183344 http://www.jobref.de/node/2183359 http://www.jobref.de/node/2183402 http://www.jobref.de/node/2183426 http://www.jobref.de/node/2183431 http://www.jobref.de/node/2183446 http://www.jobref.de/node/2183468 http://www.jobref.de/node/2183482 http://www.jobref.de/node/2183486 http://www.jobref.de/node/2183494 http://www.jobref.de/node/2183513 http://www.jobref.de/node/2183530 http://www.jobref.de/node/2183535 http://www.jobref.de/node/2183548 http://www.jobref.de/node/2183561 http://www.jobref.de/node/2183571 http://www.jobref.de/node/2183586 http://www.jobref.de/node/2183598 http://www.jobref.de/node/2183607 http://www.jobref.de/node/2183619 http://www.jobref.de/node/2183655 http://www.jobref.de/node/2183680 http://www.jobref.de/node/2183710 http://www.jobref.de/node/2183720 http://www.jobref.de/node/2183748 http://www.jobref.de/node/2183761 http://www.jobref.de/node/2183773 http://www.jobref.de/node/2183788 http://www.jobref.de/node/2183811 http://www.jobref.de/node/2183826 http://www.jobref.de/node/2183868 http://www.jobref.de/node/2183877 http://www.jobref.de/node/2183912 http://www.jobref.de/node/2183931 http://www.jobref.de/node/2183954 http://www.jobref.de/node/2183985 http://www.jobref.de/node/2183999 http://www.jobref.de/node/2184016 http://www.jobref.de/node/2184023 http://www.jobref.de/node/2184043 http://www.jobref.de/node/2184067 http://www.jobref.de/node/2184072 http://www.jobref.de/node/2184099 http://www.jobref.de/node/2184118 http://www.jobref.de/node/2184121 http://www.jobref.de/node/2184135 http://www.jobref.de/node/2184144 http://www.jobref.de/node/2184162 http://www.jobref.de/node/2184173 http://www.jobref.de/node/2184195 http://www.jobref.de/node/2184207 http://www.jobref.de/node/2184216 http://www.jobref.de/node/2184228 http://www.jobref.de/node/2184250 http://www.jobref.de/node/2184261 http://www.jobref.de/node/2184290 http://www.jobref.de/node/2184319 http://www.jobref.de/node/2184326 http://www.jobref.de/node/2184340 http://www.jobref.de/node/2184377 http://www.jobref.de/node/2184405 http://www.jobref.de/node/2184407 http://www.jobref.de/node/2184413 http://www.jobref.de/node/2184440 http://www.jobref.de/node/2184471 http://www.jobref.de/node/2184479 http://www.jobref.de/node/2184497 http://www.jobref.de/node/2184501 http://www.jobref.de/node/2184510 http://www.jobref.de/node/2184527 http://www.jobref.de/node/2184539 http://www.jobref.de/node/2184548 http://www.jobref.de/node/2184560 http://www.jobref.de/node/2184593 http://www.jobref.de/node/2184613 http://www.jobref.de/node/2184623 http://www.jobref.de/node/2184646 http://www.jobref.de/node/2184659 http://www.jobref.de/node/2184665 http://www.jobref.de/node/2184681 http://www.jobref.de/node/2184697 http://www.jobref.de/node/2184704 http://www.jobref.de/node/2184716 http://www.jobref.de/node/2184722 http://www.jobref.de/node/2184742 http://www.jobref.de/node/2184755 http://www.jobref.de/node/2184778 http://www.jobref.de/node/2184787 http://www.jobref.de/node/2184821 http://www.jobref.de/node/2184858 http://www.jobref.de/node/2184871 http://www.jobref.de/node/2184888 http://www.jobref.de/node/2184901 http://www.jobref.de/node/2184980 http://www.jobref.de/node/2184995 http://www.jobref.de/node/2185002 http://www.jobref.de/node/2185009 http://www.jobref.de/node/2185025 http://www.jobref.de/node/2185033 http://www.jobref.de/node/2185076 http://www.jobref.de/node/2185087 http://www.jobref.de/node/2185091 http://www.jobref.de/node/2185103 http://www.jobref.de/node/2185121 http://www.jobref.de/node/2185164

  4. 20 May, 2019 09:52:26 PM zzhdissipjha

    Dzrt Hrx-z http://cleantalkorg4.ru/ `2019-x-21-v-b` !yu-az-c`c!

  5. 20 May, 2019 09:38:01 PM BMSysTacult

    The BM system allows you to use bitcoin savings for making profit. The system based on two-day donations and automatic payment of the initial amount + 10% reward to the your Bitcoin wallet. Easy and quick, just like have a cup of coffee. https://bm-syst.com/

  6. 20 May, 2019 08:59:09 PM dgmuitdsexyj

    Dzrt Hrx-z http://cleantalkorg4.ru/ `2019-x-21-v-b` !yu-az-c`c!

  7. 20 May, 2019 08:52:50 PM lwqjezqbkkpu

    Dzrt Hrx-z http://cleantalkorg4.ru/ `2019-x-21-v-b` !yu-az-c`c!

  8. 20 May, 2019 07:59:47 PM subbynerjmyi

    Dzrt Hrx-z http://cleantalkorg4.ru/ `2019-x-21-v-b` !yu-az-c`c!

  9. 20 May, 2019 07:53:35 PM xdmiyzxeozzf

    Dzrt Hrx-z http://cleantalkorg4.ru/ `2019-x-21-v-b` !yu-az-c`c!

  10. 20 May, 2019 07:51:04 PM nunfs.wommpri.be

    Valuable information. Fortunate me I discovered your website accidentally, and I am stunned why this twist of fate didn't happened earlier! I bookmarked it. nunfs.wommpri.be

Latest Posts