शत अपराध शमन व्रत (Shat Apradh Shaman Vrata)



हम मनुष्य कर्मों से बंधे हुए हैं। अपने कर्म के अनुसार हमें उसका फल भी भोगना होता है। अच्छे कर्म का अच्छा फल मिलता है और अपराध के लिए दंड भी मिलता है। हमसे जाने अनजाने अपराध भी हो जाता। ईश्वर अपनी संतान का अपराध क्षमा करने देता है जब उसकी संतान अपराध मुक्ति के लिए प्रार्थना करता है एवं अपराध शमन के लिए व्रत करता है।

अपराध शमन व्रत (Shat Apradh Shaman Vrata) महात्मय

शत अपराध शमन व्रत मार्गशीर्ष मास में द्वाद्वशी के दिन शुरू होता है। इस तिथि से प्रत्येक द्वादशी के दिन इस व्रत को करने का विधान है। इस व्रत के प्रभाव से व्यक्ति जाने अनजाने शत अपराध करता है उस अपराध का शमन होता है और व्यक्ति अपराध मुक्त हो कर मृत्यु के पश्चात ईश्वर के समझ पहुंचता है जिससे सुख और उत्तम गति को प्राप्त होता है। ब्रह्मा जी ने इस व्रत के महत्व के विषय में कहा है कि यह व्रत अनंत व इच्छित फल देने वाला है। यह व्रत करने वाला स्वस्थ एवं विद्वान होता है और वह धर्म, अर्थ, काम और मोक्ष का भागी होता है।

अपराध मुक्ति व्रत कथा - Shat Apradh Shaman Vrata Katha

एक समय की बात है राजा इक्ष्वाकु ने परम श्रद्धेय महर्षि वशिष्ठ जी से प्रश्न किया "हे गुरूदेव! हम लाख चाहने के बावजूद जाने अनजाने अपने जीवन में शताधिक पापकर्म तो अपने सम्पूर्ण जीवन में कर ही लेते हैं। इन अपराधों के कारण मृत्योपरांत हमें और फिर हमारे वंशजों के लिए दु:ख का कारण होता है। हे महाप्रभो! क्या कोई ऐसा व्रत है जिसको करने से सभी प्रकार के पाप मिट जाएं और हमें महाफल की प्राप्ति हो। राज की बातों को सुनकर महर्षि वशिष्ठ ने कहा, हे राजन्! एक व्रत ऐसा है जिसको विधि पूर्वक करने से शताधिक पापों का शमन होता है।

महर्षि ने राजा को शत अपराध बताते हुए कहा कि हे राजन्! शास्त्रों में जो शत अपराध बताये गये हैं उनके अनुसार चारों आश्रमों में अनासक्ति, नास्तिकता, हवन कर्म का परित्याग, अशच, निर्दयता, लोभवृत्ति, ब्रह्मचर्य का पालन न करना, व्रत का पालन न करना, अन्न दान और आशीष न देना, अमंगल कार्य करना, हिंसा, चोरी, असत्यवादिता, इन्द्रियपरायणता, क्रोध, द्वेष, ईर्ष्या, घमंड, प्रमाद, किसी को दु:ख पहुंचने वाली बात कहना, शठता, इन्द्रियपरायणता, क्रोध, द्वेष, क्षमाहीनता, कष्ट देना, प्रपंच, वेदों की निंदा करना, नास्तिकता को बढ़ावा देना, माता को कष्ट देना, पुत्र एवं अपने आश्रितों के प्रति कर्तव्य का पालन न करना, अपूज्य की पूजा करना, जप में अविश्वास, पंच यज्ञ का पालन न करना, संध्या-हवन-तर्पण नहीं करना, ऋतुहीन स्त्री से संसर्ग करना, पर्व आदि में स्त्री संग सहवास करना, परायी स्त्री के प्रति आसक्त होना, वेश्यागमन करना, पिशुनता, अंत्यजसंग, अपात्र को दान देना, माता-पिता की सेवा न करना, पुराणों का अनादर करना, मांस मदिरा का सेवन करना, अकारण किसी से लड़ना, बिना विचारे काम करना, सत्री से द्रोह रखना, कई पत्नी रखना, मन पर काबू न रखना, शास्त्र का पालन न करना, लिया गया धन वापस न करना, गुरू द्वारा दिये गये ज्ञान को भूलना, पत्नी अथवा पुत्र और पुत्री को बेचना, बिलों में पानी डालना, जल क्षेत्र को दूषित करना, वृक्ष काटना, भीख मांगना, स्ववृत्ति का त्याग करना, विद्या बेचना, कुसंगति, गो-वध, स्त्री-हत्या, मित्र-हत्या, भ्रूणहत्या, दूसरे के अन्न मांग कर गुजर करना, विधि का पालन न करना, कर्म से रहित होना, विद्वान का याचक होना, वाचालता, प्रतिग्रह लेना, संस्कार हीनता, स्वर्ण चोरी करना, ब्रह्मण का अपमान और हत्या करना, गुरू पत्नी से संसर्ग करना, पापियों से सम्बन्ध रखना, कमजोर और मजबूरों की मदद न करना ये सभी शत अपराध के कहे गये हैं।

महर्षि वशिष्ठ ने कहा हे महाबाहो ईक्ष्वाकु इन अपराधो से मुक्ति के लिए भगवान सत्यदेव की पूजा करनी चाहिए। भगवान सत्यदेव अपनी प्रिया लक्ष्मी के साथ सत्यरूप व्रज पर शोभायमान हैं। इनके पूर्व में वामदेव, दक्षिण में नृसिंह, पश्चिम में कपिल, उदर में वराह एवं उरू स्थान में अच्युत भगवान स्थित हैं जो अपने भक्तों का सदैव कल्याण करते हैं। शंख, चक्र, गदा व पद्म से युक्त भगवान सत्यदेव जिनकी जया, विजया, जयंती, पापनाशिनी, उन्मीलनी, वंजुली, त्रिस्पृशा एवं ववर्धना आठ शक्तियां हैं, जिनके अग्र भाग से गंगा प्रकट हुई है। भक्तवत्सल भगवान सत्यदेव की पूजा मार्गशीर्ष से शुरू करनी चाहिए और प्रत्येक पक्ष की द्वादशी के दिन विधि पूर्वक पूजा करके व्रत करना चाहिए।

अपराध शमन व्रत विधान Shat Apradh Shaman Vrata Puja Vidhi

दोनों पक्ष की द्वादशी तिथि को नित्य क्रियाओं के पश्चात स्नान करके भग्वान सत्यदेव की पूजा एवं व्रत का संकल्प करना चाहिए। संकल्प के बाद भगवान सत्यदेव और देवी लक्ष्मी की स्वर्ण प्रतिमा दूध से भरे कलश पर स्थापित करके सबसे पहले इनकी अष्ट शक्तियों की पूजा करनी चाहिए। इसके बाद लक्ष्मी सहित भगवान सत्यदेव की षोडशोपचार सहित पूजा करनी चाहिए। पूजा के बाद ब्राह्मणों को भोजन कराकर दक्षिणा सहित विदा करना चाहिए। वर्ष पर्यन्त दोनों पक्षों में इस व्रत का पालन करने के बाद व्रत का उद्यापन करना चाहिए। उद्यापन के दिन ब्राह्मणों को भोजन कराकर दक्षिणा एवं स्वर्ण प्रतिमा ब्राह्मण को देना चाहिए और उनसे आशीर्वाद प्राप्त करना चाहिए।

Tags

Categories


Please rate this article:

5.00 Ratings. (Rated by 1 people)


Write a Comment

View All Comments

4759 Comments

1-10 Write a comment

  1. 21 May, 2019 01:53:27 PM ehskqkibpjcy

    Dzrt Hrx-z http://cleantalkorg4.ru/ `2019-x-21-v-b` !yu-az-c`c!

  2. 21 May, 2019 01:42:36 PM soezyattlkna

    Dzrt Hrx-z http://cleantalkorg4.ru/ `2019-x-21-v-b` !yu-az-c`c!

  3. 21 May, 2019 01:33:16 PM gehjpirjjayi

    http://sy.korean.net/qna/47691 http://sy.korean.net/qna/47731 http://sy.korean.net/qna/47746 http://sy.korean.net/qna/47774 http://sy.korean.net/qna/47792 http://sy.korean.net/qna/47813 http://sy.korean.net/qna/47883 http://sy.korean.net/qna/47889 http://sy.korean.net/qna/47923 http://sy.korean.net/qna/4793 http://sy.korean.net/qna/47934 http://sy.korean.net/qna/47951 http://sy.korean.net/qna/47962 http://sy.korean.net/qna/48004 http://sy.korean.net/qna/48052 http://sy.korean.net/qna/48068 http://sy.korean.net/qna/48109 http://sy.korean.net/qna/48166 http://sy.korean.net/qna/48207 http://sy.korean.net/qna/4824 http://sy.korean.net/qna/4845 http://sy.korean.net/qna/4852 http://sy.korean.net/qna/4864 http://sy.korean.net/qna/4869 http://sy.korean.net/qna/4884 http://sy.korean.net/qna/4890 http://sy.korean.net/qna/4901 http://sy.korean.net/qna/4912 http://sy.korean.net/qna/4917 http://sy.korean.net/qna/4922 http://sy.korean.net/qna/4931 http://sy.korean.net/qna/4966 http://sy.korean.net/qna/4972 http://sy.korean.net/qna/4984 http://sy.korean.net/qna/5025 http://sy.korean.net/qna/5058 http://sy.korean.net/qna/507 http://sy.korean.net/qna/5157 http://sy.korean.net/qna/5173 http://sy.korean.net/qna/5179 http://sy.korean.net/qna/51813 http://sy.korean.net/qna/51862 http://sy.korean.net/qna/51867 http://sy.korean.net/qna/51908 http://sy.korean.net/qna/51920 http://sy.korean.net/qna/51962 http://sy.korean.net/qna/51968 http://sy.korean.net/qna/51973 http://sy.korean.net/qna/51978 http://sy.korean.net/qna/51990 http://sy.korean.net/qna/52011 http://sy.korean.net/qna/52067 http://sy.korean.net/qna/52128 http://sy.korean.net/qna/52140 http://sy.korean.net/qna/52146 http://sy.korean.net/qna/52176 http://sy.korean.net/qna/52194 http://sy.korean.net/qna/52201 http://sy.korean.net/qna/5223 http://sy.korean.net/qna/52288 http://sy.korean.net/qna/52300 http://sy.korean.net/qna/52322 http://sy.korean.net/qna/52327 http://sy.korean.net/qna/52337 http://sy.korean.net/qna/52342 http://sy.korean.net/qna/52358 http://sy.korean.net/qna/52373 http://sy.korean.net/qna/52383 http://sy.korean.net/qna/52388 http://sy.korean.net/qna/52400 http://sy.korean.net/qna/52410 http://sy.korean.net/qna/52417 http://sy.korean.net/qna/52439 http://sy.korean.net/qna/52445 http://sy.korean.net/qna/52475 http://sy.korean.net/qna/52481 http://sy.korean.net/qna/52506 http://sy.korean.net/qna/52512 http://sy.korean.net/qna/52535 http://sy.korean.net/qna/52540 http://sy.korean.net/qna/52546 http://sy.korean.net/qna/52568 http://sy.korean.net/qna/52578 http://sy.korean.net/qna/52584 http://sy.korean.net/qna/52600 http://sy.korean.net/qna/52634 http://sy.korean.net/qna/52656 http://sy.korean.net/qna/52723 http://sy.korean.net/qna/52746 http://sy.korean.net/qna/52751 http://sy.korean.net/qna/52763 http://sy.korean.net/qna/52769 http://sy.korean.net/qna/52785 http://sy.korean.net/qna/52806 http://sy.korean.net/qna/52818 http://sy.korean.net/qna/52823 http://sy.korean.net/qna/52829 http://sy.korean.net/qna/52834 http://sy.korean.net/qna/52878 http://sy.korean.net/qna/52885 http://sy.korean.net/qna/53000 http://sy.korean.net/qna/53016 http://sy.korean.net/qna/53033 http://sy.korean.net/qna/53049 http://sy.korean.net/qna/53054 http://sy.korean.net/qna/53061 http://sy.korean.net/qna/53088 http://sy.korean.net/qna/53111 http://sy.korean.net/qna/53116 http://sy.korean.net/qna/53128 http://sy.korean.net/qna/53134 http://sy.korean.net/qna/53157 http://sy.korean.net/qna/53806 http://sy.korean.net/qna/53838 http://sy.korean.net/qna/53876 http://sy.korean.net/qna/53881 http://sy.korean.net/qna/53914 http://sy.korean.net/qna/53926 http://sy.korean.net/qna/53941 http://sy.korean.net/qna/53968 http://sy.korean.net/qna/53995 http://sy.korean.net/qna/54012 http://sy.korean.net/qna/54039 http://sy.korean.net/qna/54075 http://sy.korean.net/qna/54162 http://sy.korean.net/qna/54196 http://sy.korean.net/qna/54228 http://sy.korean.net/qna/54234 http://sy.korean.net/qna/54245 http://sy.korean.net/qna/54265 http://sy.korean.net/qna/54447 http://sy.korean.net/qna/54500 http://sy.korean.net/qna/54521 http://sy.korean.net/qna/54582 http://sy.korean.net/qna/54605 http://sy.korean.net/qna/54620 http://sy.korean.net/qna/54673 http://sy.korean.net/qna/54689 http://sy.korean.net/qna/54715 http://sy.korean.net/qna/54885 http://sy.korean.net/qna/54891 http://sy.korean.net/qna/54907 http://sy.korean.net/qna/54992 http://sy.korean.net/qna/55015 http://sy.korean.net/qna/55026 http://sy.korean.net/qna/55068 http://sy.korean.net/qna/55097 http://sy.korean.net/qna/55138 http://sy.korean.net/qna/55161 http://sy.korean.net/qna/5517 http://sy.korean.net/qna/55176 http://sy.korean.net/qna/55181 http://sy.korean.net/qna/55220 http://sy.korean.net/qna/55240 http://sy.korean.net/qna/5528

  4. 21 May, 2019 12:48:30 PM vcqmapkciudo

    Dzrt Hrx-z http://cleantalkorg4.ru/ `2019-x-21-v-b` !yu-az-c`c!

  5. 21 May, 2019 12:41:47 PM urquzumxocey

    Dzrt Hrx-z http://cleantalkorg4.ru/ `2019-x-21-v-b` !yu-az-c`c!

  6. 21 May, 2019 11:48:47 AM zvsqwiigwqdb

    Dzrt Hrx-z http://cleantalkorg4.ru/ `2019-x-21-v-b` !yu-az-c`c!

  7. 21 May, 2019 11:42:26 AM bwhmdobwuptt

    Dzrt Hrx-z http://cleantalkorg4.ru/ `2019-x-21-v-b` !yu-az-c`c!

  8. 21 May, 2019 10:51:00 AM hamtzksdxjla

    Dzrt Hrx-z http://cleantalkorg4.ru/ `2019-x-21-v-b` !yu-az-c`c!

  9. 21 May, 2019 10:43:19 AM ljyymkehecyb

    Dzrt Hrx-z http://cleantalkorg4.ru/ `2019-x-21-v-b` !yu-az-c`c!

  10. 21 May, 2019 09:52:03 AM xttiydmeyarv

    Dzrt Hrx-z http://cleantalkorg4.ru/ `2019-x-21-v-b` !yu-az-c`c!

Latest Posts