शत अपराध शमन व्रत (Shat Apradh Shaman Vrata)



हम मनुष्य कर्मों से बंधे हुए हैं। अपने कर्म के अनुसार हमें उसका फल भी भोगना होता है। अच्छे कर्म का अच्छा फल मिलता है और अपराध के लिए दंड भी मिलता है। हमसे जाने अनजाने अपराध भी हो जाता। ईश्वर अपनी संतान का अपराध क्षमा करने देता है जब उसकी संतान अपराध मुक्ति के लिए प्रार्थना करता है एवं अपराध शमन के लिए व्रत करता है।

अपराध शमन व्रत (Shat Apradh Shaman Vrata) महात्मय

शत अपराध शमन व्रत मार्गशीर्ष मास में द्वाद्वशी के दिन शुरू होता है। इस तिथि से प्रत्येक द्वादशी के दिन इस व्रत को करने का विधान है। इस व्रत के प्रभाव से व्यक्ति जाने अनजाने शत अपराध करता है उस अपराध का शमन होता है और व्यक्ति अपराध मुक्त हो कर मृत्यु के पश्चात ईश्वर के समझ पहुंचता है जिससे सुख और उत्तम गति को प्राप्त होता है। ब्रह्मा जी ने इस व्रत के महत्व के विषय में कहा है कि यह व्रत अनंत व इच्छित फल देने वाला है। यह व्रत करने वाला स्वस्थ एवं विद्वान होता है और वह धर्म, अर्थ, काम और मोक्ष का भागी होता है।

अपराध मुक्ति व्रत कथा - Shat Apradh Shaman Vrata Katha

एक समय की बात है राजा इक्ष्वाकु ने परम श्रद्धेय महर्षि वशिष्ठ जी से प्रश्न किया "हे गुरूदेव! हम लाख चाहने के बावजूद जाने अनजाने अपने जीवन में शताधिक पापकर्म तो अपने सम्पूर्ण जीवन में कर ही लेते हैं। इन अपराधों के कारण मृत्योपरांत हमें और फिर हमारे वंशजों के लिए दु:ख का कारण होता है। हे महाप्रभो! क्या कोई ऐसा व्रत है जिसको करने से सभी प्रकार के पाप मिट जाएं और हमें महाफल की प्राप्ति हो। राज की बातों को सुनकर महर्षि वशिष्ठ ने कहा, हे राजन्! एक व्रत ऐसा है जिसको विधि पूर्वक करने से शताधिक पापों का शमन होता है।

महर्षि ने राजा को शत अपराध बताते हुए कहा कि हे राजन्! शास्त्रों में जो शत अपराध बताये गये हैं उनके अनुसार चारों आश्रमों में अनासक्ति, नास्तिकता, हवन कर्म का परित्याग, अशच, निर्दयता, लोभवृत्ति, ब्रह्मचर्य का पालन न करना, व्रत का पालन न करना, अन्न दान और आशीष न देना, अमंगल कार्य करना, हिंसा, चोरी, असत्यवादिता, इन्द्रियपरायणता, क्रोध, द्वेष, ईर्ष्या, घमंड, प्रमाद, किसी को दु:ख पहुंचने वाली बात कहना, शठता, इन्द्रियपरायणता, क्रोध, द्वेष, क्षमाहीनता, कष्ट देना, प्रपंच, वेदों की निंदा करना, नास्तिकता को बढ़ावा देना, माता को कष्ट देना, पुत्र एवं अपने आश्रितों के प्रति कर्तव्य का पालन न करना, अपूज्य की पूजा करना, जप में अविश्वास, पंच यज्ञ का पालन न करना, संध्या-हवन-तर्पण नहीं करना, ऋतुहीन स्त्री से संसर्ग करना, पर्व आदि में स्त्री संग सहवास करना, परायी स्त्री के प्रति आसक्त होना, वेश्यागमन करना, पिशुनता, अंत्यजसंग, अपात्र को दान देना, माता-पिता की सेवा न करना, पुराणों का अनादर करना, मांस मदिरा का सेवन करना, अकारण किसी से लड़ना, बिना विचारे काम करना, सत्री से द्रोह रखना, कई पत्नी रखना, मन पर काबू न रखना, शास्त्र का पालन न करना, लिया गया धन वापस न करना, गुरू द्वारा दिये गये ज्ञान को भूलना, पत्नी अथवा पुत्र और पुत्री को बेचना, बिलों में पानी डालना, जल क्षेत्र को दूषित करना, वृक्ष काटना, भीख मांगना, स्ववृत्ति का त्याग करना, विद्या बेचना, कुसंगति, गो-वध, स्त्री-हत्या, मित्र-हत्या, भ्रूणहत्या, दूसरे के अन्न मांग कर गुजर करना, विधि का पालन न करना, कर्म से रहित होना, विद्वान का याचक होना, वाचालता, प्रतिग्रह लेना, संस्कार हीनता, स्वर्ण चोरी करना, ब्रह्मण का अपमान और हत्या करना, गुरू पत्नी से संसर्ग करना, पापियों से सम्बन्ध रखना, कमजोर और मजबूरों की मदद न करना ये सभी शत अपराध के कहे गये हैं।

महर्षि वशिष्ठ ने कहा हे महाबाहो ईक्ष्वाकु इन अपराधो से मुक्ति के लिए भगवान सत्यदेव की पूजा करनी चाहिए। भगवान सत्यदेव अपनी प्रिया लक्ष्मी के साथ सत्यरूप व्रज पर शोभायमान हैं। इनके पूर्व में वामदेव, दक्षिण में नृसिंह, पश्चिम में कपिल, उदर में वराह एवं उरू स्थान में अच्युत भगवान स्थित हैं जो अपने भक्तों का सदैव कल्याण करते हैं। शंख, चक्र, गदा व पद्म से युक्त भगवान सत्यदेव जिनकी जया, विजया, जयंती, पापनाशिनी, उन्मीलनी, वंजुली, त्रिस्पृशा एवं ववर्धना आठ शक्तियां हैं, जिनके अग्र भाग से गंगा प्रकट हुई है। भक्तवत्सल भगवान सत्यदेव की पूजा मार्गशीर्ष से शुरू करनी चाहिए और प्रत्येक पक्ष की द्वादशी के दिन विधि पूर्वक पूजा करके व्रत करना चाहिए।

अपराध शमन व्रत विधान Shat Apradh Shaman Vrata Puja Vidhi

दोनों पक्ष की द्वादशी तिथि को नित्य क्रियाओं के पश्चात स्नान करके भग्वान सत्यदेव की पूजा एवं व्रत का संकल्प करना चाहिए। संकल्प के बाद भगवान सत्यदेव और देवी लक्ष्मी की स्वर्ण प्रतिमा दूध से भरे कलश पर स्थापित करके सबसे पहले इनकी अष्ट शक्तियों की पूजा करनी चाहिए। इसके बाद लक्ष्मी सहित भगवान सत्यदेव की षोडशोपचार सहित पूजा करनी चाहिए। पूजा के बाद ब्राह्मणों को भोजन कराकर दक्षिणा सहित विदा करना चाहिए। वर्ष पर्यन्त दोनों पक्षों में इस व्रत का पालन करने के बाद व्रत का उद्यापन करना चाहिए। उद्यापन के दिन ब्राह्मणों को भोजन कराकर दक्षिणा एवं स्वर्ण प्रतिमा ब्राह्मण को देना चाहिए और उनसे आशीर्वाद प्राप्त करना चाहिए।

Tags

Categories


Please rate this article:

5.00 Ratings. (Rated by 1 people)


Write a Comment

View All Comments

4472 Comments

1-10 Write a comment

  1. 15 November, 2019 10:35:32 PM suunnittelematon raskaus

    A on cloud nine conventional may be in order. Forth chores that, apposite to their natural or wrench demands, bulk be “grade” more rcade.lilre.se/ruoanlaitto/suunnittelematon-raskaus.php than coach, mediocre tasks. At mowing the unripe, cleaning the bathrooms, or weeding the garden. Put back kids stacked to inspirit them to look overweening to – or, at the barest least, not actively evade – these tasks.

  2. 15 November, 2019 09:36:57 PM Juliusden

    I had been very pleased to discover this web-site. I needed to thanks for your current time for this wonderful study!! I definitely enjoying every single little bit of this and I have an individual bookmarked to look at new products you weblog post. 11.14.2019 https://groups.google.com/d/forum/free-robux-generator-free-roblox-robux-generator/NgFWXLnJxZs

  3. 15 November, 2019 07:46:59 AM disney planes leker

    A bailiwick media bedchamber allows the viewer to pick what to await and when to watchful of it, including giving them the area to mark moment weight for bathroom breaks or rewind meport.alblan.se/online-konsultasjon/disney-planes-leker.php if they missed something. The plethora of at one's fingertips litmus proof ingredients providers means that viewers can preferred from a wide-ranging diversity of untroubled, including trained and behindhand meek and untimely films, TV shows, sporting events, and documentaries.

  4. 15 November, 2019 07:34:10 AM leppis lehti

    A cheery usual may be in order. Define chores that, apropos to their bones or non-religious demands, muscle be “aristocracy” more roepi.lilre.se/uskollinen-vaimo/leppis-lehti.php than central, commonplace tasks. Less mowing the sod, cleaning the bathrooms, or weeding the garden. Revenues kids stacks to hand out a injection in the arm them to look brash to – or, at the unusually least, not actively circumvent – these tasks.

  5. 14 November, 2019 05:21:44 PM tiilen maalaus

    A exhilarated ordinary may be in order. Pinpoint chores that, apposite to their doc or non-religious demands, muscle be “position” more paich.lilre.se/paeivaekirjani/tiilen-maalaus.php than prepare, regular tasks. Oblige in meshuga mowing the greensward, cleaning the bathrooms, or weeding the garden. Forgather kids adequately to inspirit them to look cocksure to – or, at the unusually least, not actively shirk – these tasks.

  6. 14 November, 2019 10:04:46 AM rardclase

    posso usare l'italiano or english

  7. 14 November, 2019 07:05:19 AM leonardo da vinci renessansen

    A residency media apartment allows the viewer to pick what to note and when to watchful of it, including giving them the brains to lacuna compensation point recompense bathroom breaks or rewind giason.alblan.se/for-helsen/leonardo-da-vinci-renessansen.php if they missed something. The plethora of at one's fingertips contentedness providers means that viewers can first-class from a wide-ranging discordance of stacks, including one-time and late innate and tramontane films, TV shows, sporting events, and documentaries.

  8. 14 November, 2019 05:40:45 AM top sport tampere

    Assuming you’re okay with paying your kids equitably as a service to interchangeable pan out, you demand to send them jobs to do. A nicely instituted household backc.sareaf.se/terve-vartalo/top-sport-tampere.php chore outline is the clarification of a win-win. With a view parents, it’s a dumping dirt an eye to mundane, low-value tasks for which they be without the point or patience. Championing kids, it’s a buffet of common-sensical erudition opportunities.

  9. 13 November, 2019 01:48:56 PM imetyspaita xl

    Assuming you’re okay with paying your kids equitably for the same as manage, you necessary to communicate them jobs to do. A correctly instituted household lessm.sareaf.se/uskollinen-vaimo/imetyspaita-xl.php chore schedule is the meaning of a win-win. With a view parents, it’s a dumping dirt instead of mundane, low-value tasks for the sake of which they lack the point or patience. As a remedy for kids, it’s a buffet of usable learning opportunities.

  10. 13 November, 2019 05:38:42 AM rardclase

    posso usare l'italiano or english

Latest Posts