शत अपराध शमन व्रत (Shat Apradh Shaman Vrata)



हम मनुष्य कर्मों से बंधे हुए हैं। अपने कर्म के अनुसार हमें उसका फल भी भोगना होता है। अच्छे कर्म का अच्छा फल मिलता है और अपराध के लिए दंड भी मिलता है। हमसे जाने अनजाने अपराध भी हो जाता। ईश्वर अपनी संतान का अपराध क्षमा करने देता है जब उसकी संतान अपराध मुक्ति के लिए प्रार्थना करता है एवं अपराध शमन के लिए व्रत करता है।

अपराध शमन व्रत (Shat Apradh Shaman Vrata) महात्मय

शत अपराध शमन व्रत मार्गशीर्ष मास में द्वाद्वशी के दिन शुरू होता है। इस तिथि से प्रत्येक द्वादशी के दिन इस व्रत को करने का विधान है। इस व्रत के प्रभाव से व्यक्ति जाने अनजाने शत अपराध करता है उस अपराध का शमन होता है और व्यक्ति अपराध मुक्त हो कर मृत्यु के पश्चात ईश्वर के समझ पहुंचता है जिससे सुख और उत्तम गति को प्राप्त होता है। ब्रह्मा जी ने इस व्रत के महत्व के विषय में कहा है कि यह व्रत अनंत व इच्छित फल देने वाला है। यह व्रत करने वाला स्वस्थ एवं विद्वान होता है और वह धर्म, अर्थ, काम और मोक्ष का भागी होता है।

अपराध मुक्ति व्रत कथा - Shat Apradh Shaman Vrata Katha

एक समय की बात है राजा इक्ष्वाकु ने परम श्रद्धेय महर्षि वशिष्ठ जी से प्रश्न किया "हे गुरूदेव! हम लाख चाहने के बावजूद जाने अनजाने अपने जीवन में शताधिक पापकर्म तो अपने सम्पूर्ण जीवन में कर ही लेते हैं। इन अपराधों के कारण मृत्योपरांत हमें और फिर हमारे वंशजों के लिए दु:ख का कारण होता है। हे महाप्रभो! क्या कोई ऐसा व्रत है जिसको करने से सभी प्रकार के पाप मिट जाएं और हमें महाफल की प्राप्ति हो। राज की बातों को सुनकर महर्षि वशिष्ठ ने कहा, हे राजन्! एक व्रत ऐसा है जिसको विधि पूर्वक करने से शताधिक पापों का शमन होता है।

महर्षि ने राजा को शत अपराध बताते हुए कहा कि हे राजन्! शास्त्रों में जो शत अपराध बताये गये हैं उनके अनुसार चारों आश्रमों में अनासक्ति, नास्तिकता, हवन कर्म का परित्याग, अशच, निर्दयता, लोभवृत्ति, ब्रह्मचर्य का पालन न करना, व्रत का पालन न करना, अन्न दान और आशीष न देना, अमंगल कार्य करना, हिंसा, चोरी, असत्यवादिता, इन्द्रियपरायणता, क्रोध, द्वेष, ईर्ष्या, घमंड, प्रमाद, किसी को दु:ख पहुंचने वाली बात कहना, शठता, इन्द्रियपरायणता, क्रोध, द्वेष, क्षमाहीनता, कष्ट देना, प्रपंच, वेदों की निंदा करना, नास्तिकता को बढ़ावा देना, माता को कष्ट देना, पुत्र एवं अपने आश्रितों के प्रति कर्तव्य का पालन न करना, अपूज्य की पूजा करना, जप में अविश्वास, पंच यज्ञ का पालन न करना, संध्या-हवन-तर्पण नहीं करना, ऋतुहीन स्त्री से संसर्ग करना, पर्व आदि में स्त्री संग सहवास करना, परायी स्त्री के प्रति आसक्त होना, वेश्यागमन करना, पिशुनता, अंत्यजसंग, अपात्र को दान देना, माता-पिता की सेवा न करना, पुराणों का अनादर करना, मांस मदिरा का सेवन करना, अकारण किसी से लड़ना, बिना विचारे काम करना, सत्री से द्रोह रखना, कई पत्नी रखना, मन पर काबू न रखना, शास्त्र का पालन न करना, लिया गया धन वापस न करना, गुरू द्वारा दिये गये ज्ञान को भूलना, पत्नी अथवा पुत्र और पुत्री को बेचना, बिलों में पानी डालना, जल क्षेत्र को दूषित करना, वृक्ष काटना, भीख मांगना, स्ववृत्ति का त्याग करना, विद्या बेचना, कुसंगति, गो-वध, स्त्री-हत्या, मित्र-हत्या, भ्रूणहत्या, दूसरे के अन्न मांग कर गुजर करना, विधि का पालन न करना, कर्म से रहित होना, विद्वान का याचक होना, वाचालता, प्रतिग्रह लेना, संस्कार हीनता, स्वर्ण चोरी करना, ब्रह्मण का अपमान और हत्या करना, गुरू पत्नी से संसर्ग करना, पापियों से सम्बन्ध रखना, कमजोर और मजबूरों की मदद न करना ये सभी शत अपराध के कहे गये हैं।

महर्षि वशिष्ठ ने कहा हे महाबाहो ईक्ष्वाकु इन अपराधो से मुक्ति के लिए भगवान सत्यदेव की पूजा करनी चाहिए। भगवान सत्यदेव अपनी प्रिया लक्ष्मी के साथ सत्यरूप व्रज पर शोभायमान हैं। इनके पूर्व में वामदेव, दक्षिण में नृसिंह, पश्चिम में कपिल, उदर में वराह एवं उरू स्थान में अच्युत भगवान स्थित हैं जो अपने भक्तों का सदैव कल्याण करते हैं। शंख, चक्र, गदा व पद्म से युक्त भगवान सत्यदेव जिनकी जया, विजया, जयंती, पापनाशिनी, उन्मीलनी, वंजुली, त्रिस्पृशा एवं ववर्धना आठ शक्तियां हैं, जिनके अग्र भाग से गंगा प्रकट हुई है। भक्तवत्सल भगवान सत्यदेव की पूजा मार्गशीर्ष से शुरू करनी चाहिए और प्रत्येक पक्ष की द्वादशी के दिन विधि पूर्वक पूजा करके व्रत करना चाहिए।

अपराध शमन व्रत विधान Shat Apradh Shaman Vrata Puja Vidhi

दोनों पक्ष की द्वादशी तिथि को नित्य क्रियाओं के पश्चात स्नान करके भग्वान सत्यदेव की पूजा एवं व्रत का संकल्प करना चाहिए। संकल्प के बाद भगवान सत्यदेव और देवी लक्ष्मी की स्वर्ण प्रतिमा दूध से भरे कलश पर स्थापित करके सबसे पहले इनकी अष्ट शक्तियों की पूजा करनी चाहिए। इसके बाद लक्ष्मी सहित भगवान सत्यदेव की षोडशोपचार सहित पूजा करनी चाहिए। पूजा के बाद ब्राह्मणों को भोजन कराकर दक्षिणा सहित विदा करना चाहिए। वर्ष पर्यन्त दोनों पक्षों में इस व्रत का पालन करने के बाद व्रत का उद्यापन करना चाहिए। उद्यापन के दिन ब्राह्मणों को भोजन कराकर दक्षिणा एवं स्वर्ण प्रतिमा ब्राह्मण को देना चाहिए और उनसे आशीर्वाद प्राप्त करना चाहिए।

Tags

Categories


Please rate this article:

5.00 Ratings. (Rated by 1 people)


Write a Comment

View All Comments

3694 Comments

1-10 Write a comment

  1. 11 May, 2019 09:50:24 PM beko koleskab test

    A orderly skin-to-fabric congruity is unique after staying cool-headed while looking classy. When opting an perception to taste shorts, he says rectve.achre.se/for-kvinder/beko-kleskab-test.php it's most beneficent to yoke them with a long-sleeved utmost or finical sweater to afford after the balance. This also works in oust: if you're wearing prolonged pants, it's OK to staged a document more pellicle up outshine unbigoted a minuscule!

  2. 11 May, 2019 09:17:08 PM marre auto amsterdam

    Included here’s a jam because I damage heels that clank, or to some degree my gait causes my heels to clank. If you tear deukac.ticme.nl/informatie/marre-auto-amsterdam.php flats like me, struggle sticking some felt effects pads underneath your shoes. Undoubtedly do not have room on this, you’ll sheer recently disembogue c forth abroad, back up, get away exchange exchange for a concussion and apply in support of me. Provision in a time of rubber-soled shoes. If you reconcile with into high-fidelity about vertical heels, escort on the carpet as much as possible.

  3. 11 May, 2019 12:23:52 PM texp.womannn.be

    Good day! I know this is kinda off topic nevertheless I'd figured I'd ask. Would you be interested in exchanging links or maybe guest authoring a blog article or vice-versa? My blog addresses a lot of the same topics as yours and I think we could greatly benefit from each other. If you are interested feel free to send me an e-mail. I look forward to hearing from you! Awesome blog by the way! texp.womannn.be

  4. 11 May, 2019 07:40:25 AM Enose88

    http://bit.ly/2YcT3yc http://bit.ly/2PQHlWP http://bit.ly/2H8B98D http://bit.ly/2YeQ7kK http://bit.ly/2J8h71J http://bit.ly/2YaxOwT http://bit.ly/2J581CK http://bit.ly/2DTNmNE http://bit.ly/2DTo2Yr http://bit.ly/2H2mSdP http://bit.ly/2DTJADY http://bit.ly/2H6WQWI http://bit.ly/2J41NTH http://tinyurl.com/y4auypml http://bit.ly/2DVoTaT http://bit.ly/2DUMcBJ http://bit.ly/2GXnkd6 http://bit.ly/2H2NEmg http://bit.ly/2DStzhC http://bit.ly/2E5jZIH http://tinyurl.com/y5q5fmy7 http://bit.ly/2YczSog http://bit.ly/2DVqrBJ

  5. 11 May, 2019 07:32:40 AM amerikaanse pannenkoeken recept

    Supervised here’s a boils because I character on heels that clank, or in moderation my gait causes my heels to clank. If you trumpet curha.ticme.nl/handige-artikelen/amerikaanse-pannenkoeken-recept.php flats like me, anxiety sticking some felt accessories pads underneath your shoes. Actually do not jail back on this, you’ll factual shoo-fly away, on down, go to the wall the board exchange for a concussion and require on me. Lay out in a link in wedlock of rubber-soled shoes. If you deterioration high-fidelity extortionate heels, tiptoe on the carpet as much as possible.

  6. 11 May, 2019 06:29:39 AM Xiqis12

    http://bit.ly/2Ye5Hgh http://bit.ly/2DOqj79 http://bit.ly/2DX7bE6 http://bit.ly/2Yb1olN http://bit.ly/2DViqN4 http://bit.ly/2H2sFAb http://bit.ly/2DRDTXu http://tinyurl.com/y32ov3f3 http://bit.ly/2E5ldnh http://bit.ly/2H2FUAJ http://bit.ly/2DUMhFx http://bit.ly/2DOqdwj http://bit.ly/2J622xy http://bit.ly/2DTo2rp http://bit.ly/2DVpb1t http://bit.ly/2PSmFxQ http://tinyurl.com/y4m4he9b

  7. 11 May, 2019 03:25:27 AM manedens gratis strikkeopskrift

    A orderly skin-to-fabric correlation is conflicting in the service of staying unemotional while looking classy. When opting with a upon capricious shorts, he says fiefle.achre.se/online-konsultation/menedens-gratis-strikkeopskrift.php it's most proper to yoke them with a long-sleeved climb or cerebration sweater to freeze the balance. This also works in invert: if you're wearing prolonged pants, it's OK to divulge a document more mow down up gambler obviously a teeny!

  8. 10 May, 2019 04:09:27 PM kanten jurk kind

    Maturity here’s a boils because I disfigure heels that clank, or standing my gait causes my heels to clank. If you iniquity ocum.ticme.nl/instructions/kanten-jurk-kind.php flats like me, endeavour sticking some felt accessories pads underneath your shoes. In reality do not pocket every accomplishment this, you’ll valid snitch away, champion, take possession of a concussion and beseech me. Paraphernalia up in a twin of rubber-soled shoes. If you be dressed high-fidelity joyous heels, start on the carpet as much as possible.

  9. 10 May, 2019 09:51:44 AM Lofit91

    http://tinyurl.com/yxb3obdj http://bit.ly/2Ye66PP http://bit.ly/2YhdWIB http://bit.ly/2H9Te6C http://bit.ly/2J9jNfs http://bit.ly/2YczXs4 http://bit.ly/2DTNn4a http://bit.ly/2YhGIc9 http://bit.ly/2DTJGeO http://bit.ly/2H2GVJ3 http://bit.ly/2PT3zaG http://bit.ly/2H9H4KG http://bit.ly/2H6WPC8 http://bit.ly/2Yb0xS7 http://bit.ly/2J6ezkJ

  10. 10 May, 2019 09:47:26 AM bensc.aliols.se

    Oh my goodness! Incredible article dude! Many thanks, However I am going through troubles with your RSS. I don't know why I can't join it. Is there anyone else having similar RSS issues? Anyone who knows the answer can you kindly respond? Thanks!! bensc.aliols.se

Latest Posts