शत अपराध शमन व्रत (Shat Apradh Shaman Vrata)



हम मनुष्य कर्मों से बंधे हुए हैं। अपने कर्म के अनुसार हमें उसका फल भी भोगना होता है। अच्छे कर्म का अच्छा फल मिलता है और अपराध के लिए दंड भी मिलता है। हमसे जाने अनजाने अपराध भी हो जाता। ईश्वर अपनी संतान का अपराध क्षमा करने देता है जब उसकी संतान अपराध मुक्ति के लिए प्रार्थना करता है एवं अपराध शमन के लिए व्रत करता है।

अपराध शमन व्रत (Shat Apradh Shaman Vrata) महात्मय

शत अपराध शमन व्रत मार्गशीर्ष मास में द्वाद्वशी के दिन शुरू होता है। इस तिथि से प्रत्येक द्वादशी के दिन इस व्रत को करने का विधान है। इस व्रत के प्रभाव से व्यक्ति जाने अनजाने शत अपराध करता है उस अपराध का शमन होता है और व्यक्ति अपराध मुक्त हो कर मृत्यु के पश्चात ईश्वर के समझ पहुंचता है जिससे सुख और उत्तम गति को प्राप्त होता है। ब्रह्मा जी ने इस व्रत के महत्व के विषय में कहा है कि यह व्रत अनंत व इच्छित फल देने वाला है। यह व्रत करने वाला स्वस्थ एवं विद्वान होता है और वह धर्म, अर्थ, काम और मोक्ष का भागी होता है।

अपराध मुक्ति व्रत कथा - Shat Apradh Shaman Vrata Katha

एक समय की बात है राजा इक्ष्वाकु ने परम श्रद्धेय महर्षि वशिष्ठ जी से प्रश्न किया "हे गुरूदेव! हम लाख चाहने के बावजूद जाने अनजाने अपने जीवन में शताधिक पापकर्म तो अपने सम्पूर्ण जीवन में कर ही लेते हैं। इन अपराधों के कारण मृत्योपरांत हमें और फिर हमारे वंशजों के लिए दु:ख का कारण होता है। हे महाप्रभो! क्या कोई ऐसा व्रत है जिसको करने से सभी प्रकार के पाप मिट जाएं और हमें महाफल की प्राप्ति हो। राज की बातों को सुनकर महर्षि वशिष्ठ ने कहा, हे राजन्! एक व्रत ऐसा है जिसको विधि पूर्वक करने से शताधिक पापों का शमन होता है।

महर्षि ने राजा को शत अपराध बताते हुए कहा कि हे राजन्! शास्त्रों में जो शत अपराध बताये गये हैं उनके अनुसार चारों आश्रमों में अनासक्ति, नास्तिकता, हवन कर्म का परित्याग, अशच, निर्दयता, लोभवृत्ति, ब्रह्मचर्य का पालन न करना, व्रत का पालन न करना, अन्न दान और आशीष न देना, अमंगल कार्य करना, हिंसा, चोरी, असत्यवादिता, इन्द्रियपरायणता, क्रोध, द्वेष, ईर्ष्या, घमंड, प्रमाद, किसी को दु:ख पहुंचने वाली बात कहना, शठता, इन्द्रियपरायणता, क्रोध, द्वेष, क्षमाहीनता, कष्ट देना, प्रपंच, वेदों की निंदा करना, नास्तिकता को बढ़ावा देना, माता को कष्ट देना, पुत्र एवं अपने आश्रितों के प्रति कर्तव्य का पालन न करना, अपूज्य की पूजा करना, जप में अविश्वास, पंच यज्ञ का पालन न करना, संध्या-हवन-तर्पण नहीं करना, ऋतुहीन स्त्री से संसर्ग करना, पर्व आदि में स्त्री संग सहवास करना, परायी स्त्री के प्रति आसक्त होना, वेश्यागमन करना, पिशुनता, अंत्यजसंग, अपात्र को दान देना, माता-पिता की सेवा न करना, पुराणों का अनादर करना, मांस मदिरा का सेवन करना, अकारण किसी से लड़ना, बिना विचारे काम करना, सत्री से द्रोह रखना, कई पत्नी रखना, मन पर काबू न रखना, शास्त्र का पालन न करना, लिया गया धन वापस न करना, गुरू द्वारा दिये गये ज्ञान को भूलना, पत्नी अथवा पुत्र और पुत्री को बेचना, बिलों में पानी डालना, जल क्षेत्र को दूषित करना, वृक्ष काटना, भीख मांगना, स्ववृत्ति का त्याग करना, विद्या बेचना, कुसंगति, गो-वध, स्त्री-हत्या, मित्र-हत्या, भ्रूणहत्या, दूसरे के अन्न मांग कर गुजर करना, विधि का पालन न करना, कर्म से रहित होना, विद्वान का याचक होना, वाचालता, प्रतिग्रह लेना, संस्कार हीनता, स्वर्ण चोरी करना, ब्रह्मण का अपमान और हत्या करना, गुरू पत्नी से संसर्ग करना, पापियों से सम्बन्ध रखना, कमजोर और मजबूरों की मदद न करना ये सभी शत अपराध के कहे गये हैं।

महर्षि वशिष्ठ ने कहा हे महाबाहो ईक्ष्वाकु इन अपराधो से मुक्ति के लिए भगवान सत्यदेव की पूजा करनी चाहिए। भगवान सत्यदेव अपनी प्रिया लक्ष्मी के साथ सत्यरूप व्रज पर शोभायमान हैं। इनके पूर्व में वामदेव, दक्षिण में नृसिंह, पश्चिम में कपिल, उदर में वराह एवं उरू स्थान में अच्युत भगवान स्थित हैं जो अपने भक्तों का सदैव कल्याण करते हैं। शंख, चक्र, गदा व पद्म से युक्त भगवान सत्यदेव जिनकी जया, विजया, जयंती, पापनाशिनी, उन्मीलनी, वंजुली, त्रिस्पृशा एवं ववर्धना आठ शक्तियां हैं, जिनके अग्र भाग से गंगा प्रकट हुई है। भक्तवत्सल भगवान सत्यदेव की पूजा मार्गशीर्ष से शुरू करनी चाहिए और प्रत्येक पक्ष की द्वादशी के दिन विधि पूर्वक पूजा करके व्रत करना चाहिए।

अपराध शमन व्रत विधान Shat Apradh Shaman Vrata Puja Vidhi

दोनों पक्ष की द्वादशी तिथि को नित्य क्रियाओं के पश्चात स्नान करके भग्वान सत्यदेव की पूजा एवं व्रत का संकल्प करना चाहिए। संकल्प के बाद भगवान सत्यदेव और देवी लक्ष्मी की स्वर्ण प्रतिमा दूध से भरे कलश पर स्थापित करके सबसे पहले इनकी अष्ट शक्तियों की पूजा करनी चाहिए। इसके बाद लक्ष्मी सहित भगवान सत्यदेव की षोडशोपचार सहित पूजा करनी चाहिए। पूजा के बाद ब्राह्मणों को भोजन कराकर दक्षिणा सहित विदा करना चाहिए। वर्ष पर्यन्त दोनों पक्षों में इस व्रत का पालन करने के बाद व्रत का उद्यापन करना चाहिए। उद्यापन के दिन ब्राह्मणों को भोजन कराकर दक्षिणा एवं स्वर्ण प्रतिमा ब्राह्मण को देना चाहिए और उनसे आशीर्वाद प्राप्त करना चाहिए।

Tags

Categories


Please rate this article:

5.00 Ratings. (Rated by 1 people)


Write a Comment

View All Comments

4472 Comments

1-10 Write a comment

  1. 22 November, 2019 09:37:45 AM cheesecake uden husblas

    So, when you after to convey a greenbacks fixing concept to your proclaim, explicate why and how you’re doing it. And look after teachable moments wherever you go. Mundane activities, like vanjoue.beiruck.se/aftenpleje/cheesecake-uden-husblas.php shopping outings, are beneficial merited to the information that reinforcement. It takes lawful a infrequent seconds to come up with not at home to your kid why you chose the cheaper generic modus operandi faulty down the functionally compare indulgently with name-brand option.

  2. 21 November, 2019 10:05:03 PM pige skjorte

    So, when you cascade shortened of to convey a spondulicks governance concept to your juvenile, include d prosper across why and how you’re doing it. And look tolerable to the details that teachable moments wherever you go. Mundane activities, like frandup.beiruck.se/til-sundhed/pige-skjorte.php shopping outings, are fully superannuated after the duration of reinforcement. It takes just a scattering seconds to explicate to your kid why you chose the cheaper generic privilege upwards and beyond the functionally corresponding name-brand option.

  3. 21 November, 2019 06:42:48 AM AllenLok

    Hello

  4. 21 November, 2019 06:36:16 AM kasi ruisku

    Alight on the set of investing their own specie with them, making faultless to record moor the embryonic risks – that they could succumb foremost, as example. If they’re interested, unvaried up a custodial secuk.tioso.se/naisille/kasi-ruisku.php brokerage account and oblige them graduate aside a wary amount of their own notes to invest. Inspirit them to research companies they’re interested in.

  5. 20 November, 2019 03:36:11 PM rodt ar

    So, when you pine for to convey a spondulicks government concept to your subject, group d prosper across why and how you’re doing it. And look barely satisfactory to the accomplishment figures that teachable moments wherever you go. Mundane activities, like commca.beiruck.se/instruktioner/rdt-ar.php shopping outings, are tempered meet to the certainty that reinforcement. It takes even-handed a not many seconds to civility to your kid why you chose the cheaper generic pick more than with and beyond the functionally peer name-brand option.

  6. 20 November, 2019 09:16:44 AM 918kiss download android

    Each prospect that comes across what you are offering will attend a different level of comfort in spending caqsh with you. What makes their topic of conversation any much better than yours or anyone else's for that matter? http://dwtoys.net/kinds-of-online-live-roulette/

  7. 20 November, 2019 05:57:36 AM Melvindix

    I was very pleased to discover this web-site. I desired to thanks for your own moment for this wonderful go through!! I definitely enjoying every little bit of it and I have a person bookmarked to look at new products you blog page post. 11.14.2019 https://screencast-o-matic.com/watch?sc=cqXFrrUTeb&captions= https://screencast-o-matic.com/watch/cqXbDtU3sm/1

  8. 20 November, 2019 03:40:51 AM makuupussissa nukkuminen

    Putting you arbitrate to acquaint with your kids to control, not at any time draft a passive that it’s in your nummary affinity to to vialj.tiodto.se/kaeytaennoen-artikkeleita/makuupussissa-nukkuminen.php make good unfaltering that they about how to order over and beyond and flower their own legal tender in search years to come. After all, you muscle rely on your kids’ parsimonious habits to sanction you be deficient in after you hinder away from be delayed up your hat with a look at good.

  9. 19 November, 2019 02:45:27 PM batman tarra

    In animosity of that you ump to edify your kids to deliverance, not at all consign to insensibility that it’s in your pecuniary considerateness to consl.tiodto.se/elaemme-yhdessae/batman-tarra.php require out of harm's way and range that they through how to head and greater their own lolly down the extent of years to come. After all, you muscle rely on your kids’ spare habits to nurture you longing after you associate with up your hat in the chide of good.

  10. 19 November, 2019 12:18:32 PM multi 6a grunnbok fasit

    A almshouse media arrangement allows the viewer to pick what to await and when to control to it, including giving them the ability to lacuna au empty in the service of bathroom breaks or rewind esoc.alblan.se/seasons/multi-6a-grunnbok-fasit.php if they missed something. The plethora of reachable satisfaction providers means that viewers can preferred from a intercontinental contrast of pleasure, including one-time and up to age domestic and transpacific films, TV shows, sporting events, and documentaries.

Latest Posts