Varuthini Ekadashi Vrat - वरूथिनी एकादशी व्रत एवं महात्म्य



व्रत महात्म्य:

पाण्डु पुत्र युधिष्ठिर ने जब श्री कृष्ण से पूछा कि भगवन् वैसाख कृष्ण पक्ष की एकादशी को क्या कहते हैं और इस व्रत का क्या विधान एवं महत्व है तब श्री कृष्ण ने पाण्डु पुत्र सहित मानव कल्याण के लिए इस व्रत का वर्णन किया।

श्री कृष्ण ने कहा है वैसाख कृष्ण पक्ष की एकादशी को वरूथिनी के नाम से जाना जाता है। इस एकादशी का बड़ा महात्म्य है। जो भक्त श्री विष्णु में मन को लगाकर श्रद्धा पूर्वक इस एकादशी का व्रत रखता है उसे दस हजार वर्ष तक तपस्या करने का पुण्यफल प्राप्त होता है। वरूथिनी एकादशी (Varuthini Ekadashi Vrat) के व्रत से दानों में जो उत्तम दान कन्या दान कहा गया है उसका फल मिलता है।

माधव यह भी कहते है कि पृथ्वी पर मनुष्य के कर्मों का लेखा जोखा रखने वाले चित्रगुप्त जी भी इस एकदशी के व्रत के पुण्य को लिखने में असमर्थ हैं। पापी से पापी व्यक्ति भी इस व्रत का पालन करे तो उसके पाप विचार धीरे धीरे लोप हो जाते हैं व स्वर्ग का अधिकारी बन जाता है।

पृथ्वी के राजा मान्धाता ने वैसाख कृष्ण पक्ष में एकादशी का व्रत रखा था जिसके फलस्वरूप मृत्यु पश्चात उन्हें मोक्ष की प्राप्ति हुई थी। त्रेतायुग में जन्मे राम के पूर्वज इच्छवाकु वंश के राजा धुन्धुमार को भगवान शिव ने एक बार श्राप दे दिया था। धुन्धुमार ने तब इस एकादशी का व्रत रखा जिससे वह श्राप से मुक्त हो कर उत्तम लोक को प्राप्त हुए।

व्रत विधान -Varuthini Ekadashi Vrat vidhi:

श्री कृष्ण द्वारा व्रत के महात्मय को सुनने के पश्चात युधिष्ठिर बोले हे गुणातीत हे योगेश्वर अब आप इस व्रत का विधान जो है वह सुनाइये। युधिष्ठिर की बात सुनकर श्री कृष्ण कहते हैं हे धर्मराज इस व्रत का पालन करने वाले को दशमी के दिन स्नानादि से पवित्र होकर भगवान की पूजा करनी चाहिए। इस दिन कांसे के बर्तन, मसूर दाल, मांसाहार, शहद, शाक, उड़द, चना, का सेवन नहीं करना चाहिए। व्रती को इस दिन पूर्ण ब्रह्मचर्य का पालन करना चाहिए और स्त्री प्रसंग से दूर रहना चाहिए। आत्मिक शुद्धि के लिए पुराण का पाठ और भग्वद् चिन्तन करना चाहिए।

एकादशी के दिन प्रात: स्नान करके श्री विष्णु की पूजा विधि सहित करनी चाहिए। विष्णु सहस्त्रनाम का जाप एवं उनकी कथा का रसपान करना चाहिए। श्री विष्णु के निमित्त निर्जल रहकर व्रत का पालन करना चाहिए। किसी के लिए अपशब्द का प्रयोग नहीं करना चाहिए व परनिन्दा से दूर रहना चाहिए। रात्रि जागरण कर भजन, कीर्तन एवं श्री हरि का स्मरण करना चाहिए।

द्वादशी के दिन ब्राह्मणों को भोजन एवं दक्षिणा सहित विदा करने के पश्चात स्वयं तुलसी से परायण करने के पश्चात अन्न जल ग्रहण करना चाहिए।

Tags

Categories


Please rate this article:

5.00 Ratings. (Rated by 1 people)


Write a Comment

View All Comments

172 Comments

1-10 Write a comment

  1. 11 May, 2019 08:33:53 AM Oxeka11

    http://bit.ly/2H1HCT0 http://bit.ly/2H3GX3p http://bit.ly/2H8AJPB http://bit.ly/2DTVgH0 http://bit.ly/2Yeyilt http://bit.ly/2HgRjx9 http://bit.ly/2YbCYsw http://tinyurl.com/y4sgvrlz http://bit.ly/2YbgxDM http://bit.ly/2E5l9E3 http://tinyurl.com/y6738afw http://tinyurl.com/y2smh273 http://bit.ly/2PPT6gq http://bit.ly/2J581CK http://tinyurl.com/y6zt9nza http://tinyurl.com/y3mdyn9a

  2. 10 May, 2019 10:44:24 AM Unuro66

    http://bit.ly/2PTscnN http://bit.ly/2J42f4l http://bit.ly/2DTJBYy http://bit.ly/2Yf60HL http://bit.ly/2H6WShi http://bit.ly/2PTfHZf http://tinyurl.com/y3krpc8z http://bit.ly/2DSp46Y http://bit.ly/2E5l9E3 http://bit.ly/2E5laI7 http://bit.ly/2DTkW6t http://bit.ly/2DUXqpJ http://bit.ly/2Y60Yx4 http://bit.ly/2GXmQni http://bit.ly/2PNMnmY http://tinyurl.com/yymhnovr http://bit.ly/2Y92Bu3 http://bit.ly/2J429cZ http://bit.ly/2PQEQnu http://tinyurl.com/yy62rbr7 http://bit.ly/2DX36Qi http://bit.ly/2DOjz9l http://bit.ly/2DTzmns http://bit.ly/2Y943fZ http://bit.ly/2J8gZPN

  3. 09 May, 2019 10:00:15 PM Itafo53

    http://bit.ly/2DSoOVy http://bit.ly/2Ye2c9s http://tinyurl.com/yxho4bn2 http://tinyurl.com/y28mxw2f http://tinyurl.com/y5n7728t http://bit.ly/2DXaCdY http://bit.ly/2DVqqxF http://bit.ly/2YbGWRO http://bit.ly/2Yf6H3P http://bit.ly/2YeyxNp http://bit.ly/2DX6Wca http://bit.ly/2DUwQgJ http://bit.ly/2YczING http://bit.ly/2H3guDe http://tinyurl.com/y6czklv5

  4. 09 May, 2019 08:44:22 AM Neguf68

    http://bit.ly/2DSz2VG http://tinyurl.com/y2jskeq4 http://tinyurl.com/y26rts8d http://bit.ly/2Y84qHy http://bit.ly/2Y619Zg http://bit.ly/2Ye13ia http://bit.ly/2H1CrlR http://bit.ly/2H9H6Ci http://bit.ly/2DQCL6g http://tinyurl.com/y2zcwldf http://bit.ly/2H3frDi http://bit.ly/2H7vlfX http://bit.ly/2Yb1qKr http://bit.ly/2DUIY15 http://bit.ly/2YdaFdk http://bit.ly/2H4v5hG http://tinyurl.com/y6ahe42s http://bit.ly/2PQHlWP http://bit.ly/2Yf7mlP http://bit.ly/2Yhdxpz http://bit.ly/2DULoNd http://bit.ly/2H5kvqz

  5. 08 May, 2019 08:09:04 PM Asini24

    http://bit.ly/2PTrIxZ http://bit.ly/2DTo9TR http://bit.ly/2DX8lPY http://bit.ly/2DTJT1A http://tinyurl.com/y3gr4lax http://tinyurl.com/y56ukodf http://bit.ly/2YePRCi http://bit.ly/2DPNsG3 http://bit.ly/2H2nLTH http://bit.ly/2YbCOBq http://bit.ly/2DX7puW http://bit.ly/2Yhdjid http://bit.ly/2YgDntR http://tinyurl.com/y65n9yod http://bit.ly/2YbDnv2 http://bit.ly/2DUwiHH http://bit.ly/2DWy1vX http://tinyurl.com/y5qcz32f http://bit.ly/2DVq4aj http://bit.ly/2Yf7BgJ http://bit.ly/2H3CYno http://tinyurl.com/y3epyuzm http://bit.ly/2DTJVXg http://bit.ly/2DRDkNm http://bit.ly/2DVhAzW http://tinyurl.com/y2wpqaqo

  6. 08 May, 2019 01:31:06 PM vnmexhrikcrk

    http://bitly.com/mstiteli-hd

  7. 08 May, 2019 12:19:03 PM silthexrkhjo

    http://bitly.com/mstiteli-hd

  8. 08 May, 2019 12:10:04 PM abdbshqimhtx

    http://bitly.com/mstiteli-hd

  9. 08 May, 2019 11:37:39 AM gwyfsmelmaja

    http://bitly.com/mstiteli-hd

  10. 08 May, 2019 10:10:07 AM lvdcqabuewdl

    http://bitly.com/mstiteli-hd

Latest Posts