शनिवार के दिन शनि व्रत (Shani Dev Vrat )



शनि पक्षरहित होकर अगर पाप कर्म की सजा देते हैं तो उत्तम कर्म करने वाले मनुष्य को हर प्रकार की सुख सुविधा एवं वैभव भी प्रदान करते हैं। शनि देव की जो भक्ति पूर्वक व्रतोपासना करते हैं वह पाप की ओर जाने से बच जाते हैं जिससे शनि की दशा आने पर उन्हें कष्ट नहीं भोगना पड़ता।

शनिवार व्रत की विधि (Shanidev Vrat Vidhi)

शनिवार का व्रत यूं तो आप वर्ष के किसी भी शनिवार के दिन शुरू कर सकते हैं परंतु श्रावण मास में शनिवार का व्रत प्रारम्भ करना अति मंगलकारी है । इस व्रत का पालन करने वाले को शनिवार के दिन प्रात: ब्रह्म मुहूर्त में स्नान करके शनिदेव की प्रतिमा की विधि सहित पूजन करनी चाहिए। शनि भक्तों को इस दिन शनि मंदिर में जाकर शनि देव को नीले लाजवन्ती का फूल, तिल, तेल, गुड़ अर्पण करना चाहिए। शनि देव के नाम से दीपोत्सर्ग करना चाहिए।

शनिवार के दिन शनिदेव की पूजा के पश्चात उनसे अपने अपराधों एवं जाने अनजाने जो भी आपसे पाप कर्म हुआ हो उसके लिए क्षमा याचना करनी चाहिए। शनि महाराज की पूजा के पश्चात राहु और केतु की पूजा भी करनी चाहिए। इस दिन शनि भक्तों को पीपल में जल देना चाहिए और पीपल में सूत्र बांधकर सात बार परिक्रमा करनी चाहिए। शनिवार के दिन भक्तों को शनि महाराज के नाम से व्रत रखना चाहिए।

शनिश्वर के भक्तों को संध्या काल में शनि मंदिर में जाकर दीप भेंट करना चाहिए और उड़द दाल में खिचड़ी बनाकर शनि महाराज को भोग लगाना चाहिए। शनि देव का आशीर्वाद लेने के पश्चात आपको प्रसाद स्वरूप खिचड़ी खाना चाहिए। सूर्यपुत्र शनिदेव की प्रसन्नता हेतु इस दिन काले चींटियों को गुड़ एवं आटा देना चाहिए। इस दिन काले रंग का वस्त्र धारण करना चाहिए। अगर आपके पास समय की उपलब्धता हो तो शनिवार के दिन 108 तुलसी के पत्तों पर श्री राम चन्द्र जी का नाम लिखकर, पत्तों को सूत्र में पिड़ोएं और माला बनाकर श्री हरि विष्णु के गले में डालें। जिन पर शनि का कोप चल रहा हो वह भी इस मालार्पण के प्रभाव से कोप से मुक्त हो सकते हैं। इस प्रकार भक्ति एवं श्रद्धापूर्वक शनिवार के दिन शनिदेव का व्रत एवं पूजन करने से शनि का कोप शांत होता है और शनि की दशा के समय उनके भक्तों को कष्ट की अनुभूति नहीं होती है।

Tags

Categories


Please rate this article:

5.00 Ratings. (Rated by 1 people)


Write a Comment

View All Comments

1263 Comments

1-10 Write a comment

  1. 20 April, 2013 03:11:18 PM sonu

    jai sanidev jai sanidev jai sanidev jai sanidev jai sanidev jai sanidev jai sanidev

  2. 06 April, 2013 06:46:03 AM atul kaushik

    Shani ko jise ne dha liya usne sab kuch pa liya jai jai shanidev ... Jai jai shanidev

  3. 04 April, 2013 07:21:25 AM pankaj kumar goel samana

    om shani deveo name.om shani deveo name.om shani deveo name.om shani deveo name.om shani deveo name.

  4. 03 April, 2013 04:47:17 AM jeet singh bhardwaj

    JAI SHANI DEV MAHARAJ OM PARAM PREEM PARAON SAUH SANESCHARAYA NAMAH

  5. 02 April, 2013 04:56:56 AM vikas

    "jai shani dev ji "

  6. 31 March, 2013 01:03:55 PM Nilam S. Amrute

    mujhe shanidevki sadesati chalu haii kam mey progreess kaise hoga please help me Jai Sanidev........

  7. 31 March, 2013 12:42:46 PM Virpal Diwakar

    Jai shani dev Maharaj ki -- Shanidev maharaj ji hamare mitar hae dushman nahi - hey shani dev hamsab par apni krpa banaye rahkna. Punjab (Ludhiana) mai bahut bada Shani Mandir hai , sabhi bhakto ko ik bar vaha jakar shanidev Maharaj ji kae darshan karne chaiyae . Us mandir mae Shani Maharaj ki bahut kirpa hai

  8. 30 March, 2013 08:35:42 AM nits bhaskar

    muje shani maharaj ka power full mantra,pooja btayeye

  9. 23 March, 2013 09:29:23 AM sanjay golu

    JIY SANI DEV MAHARAJ JI

  10. 23 March, 2013 09:28:05 AM sanjay golu

    JIY SANI DEV MAHARAJ

Latest Posts