कामदा एकादशी व्रत (Kamada Ekadashi Vrat)



कामदा एकादशी (Kamada Ekadashi) जिसे फलदा एकादशी (Falda Ekadashi) भी कहते हैं, श्री विष्णु का उत्तम व्रत कहा गया है। इस व्रत के पुण्य से जीवात्मा को पाप से मुक्ति मिलती है। यह एकादशी कष्टों का निवारण करने वाली और मनोनुकूल फल देने वाली होने के कारण फलदा (falda) और कामना kamna) पूर्ण करने वाली होने से कामदा (kamada) कही जाती है। इस एकादशी की कथा श्री कृष्ण ने पाण्डु पुत्र धर्मराज युधिष्ठिर को सुनाई थी। इससे पूर्व राजा दिलीप को वशिष्ठ मुनि ने सुनायी थी। आइये हम भी इस एकादशी की पुण्य कथा का श्रवण करें।

कामदा एकादशी कथा: (Kamada Ekadashi Vrat katha)

पुण्डरीक नामक नाग का राज्य अत्यंत वैभवशाली एवं सम्पन्न था। उस राज्य में गंधर्व, अप्सराएं एवं किन्नर भी रहा करते थे। इस राज्य में ललिता नामक अति सुन्दर अप्सरा और ललित नामक श्रेष्ठ गंधर्व का वास था। ये दोनों पति पत्नी थे। इनके बीच अगाध प्रेम की धारा बहती थी। दोंनों में इस कदर प्रेम था कि वे सदा एक दूसरे का ही स्मरण किया करते थे, संयोगवश एक दूसरे की नज़रों के सामने नहीं होते तो विह्वल हो उठते। इसी प्रकार की घटना उस वक्त घटी जब ललित महाराज पुण्डरीक के दरबार में उपस्थित श्रेष्ठ जनों को अपने गायन और नृत्य से आनन्दित कर रहा था।

गायन और नृत्य करते हुए ललित को अपनी पत्नी ललिता का स्मरण हो आया जिससे गायन और नृत्य में वह ग़लती कर बैठा। सभा में कर्कोटक नामक नाग भी उपस्थित था जिसने महाराज पुण्डरीक को ललित की मनोदशा एवं उसकी गलती बदा दी। पुण्डरीक इससे अत्यंत क्रोधित हुआ और ललित को राक्षस बन जाने का श्राप दे दिया।

ललित के राक्षस बन जाने पर ललिता अत्यंत दु:खी हुई और अपने पति को श्राप से मुक्ति दिलाने के लिए यत्न करने लगी। एक दिन एक मुनि ने ललिता की दु:खद कथा सुनकर उसे कामदा एकादशी का व्रत करने का परामर्श दिया। ललिता ने उसी मुनी के आश्रम में एकादशी व्रत का पालन किय और द्वादशी के दिन व्रत का पुण्य अपने पति को दे दिया। व्रत के पुण्य से ललित पहले से भी सुन्दर गंधर्व रूप में लट आया।

व्रत विधि: (Kamada Ekadashi Vrat Vidhi)

एकादशी के दिन स्नानादि से पवित्र होने के पश्चात संकल्प करके श्री विष्णु के विग्रह की पूजन करें। विष्णु को फूल, फल, तिल, दूध, पंचामृत आदि नाना पदार्थ निवेदित करें। आठों प्रहर निर्जल रहकर विष्णु जी के नाम का स्मरण एवं कीर्तन करें। एकादशी व्रत में ब्राह्मण भोजन एवं दक्षिणा का बड़ा ही महत्व है अत: ब्राह्मण को भोजन करवाकर दक्षिणा सहित विदा करने के पश्चात ही भोजना ग्रहण करें। इस प्रकार जो चैत्र शुक्ल पक्ष में एकादशी का व्रत रखता है उसकी कामना पूर्ण होती है।

Tags

Categories


Please rate this article:

5.00 Ratings. (Rated by 1 people)


Write a Comment

View All Comments

242 Comments

1-10 Write a comment

  1. 27 May, 2019 09:48:11 PM sawuxhzepolc

    http://bitly.com/2YP4YCp http://135.it/LgB5Y http://bitly.com/2K3v9kR a12764b b13342d d14398u

  2. 27 May, 2019 05:53:47 PM kybjptshxxbu

    http://bitly.com/2K6t0Fc http://bitly.com/2HWCjVq http://135.it/KpTN2 s4913h c13882j c13719c

  3. 27 May, 2019 02:46:33 PM lydrzzmjacfa

    http://135.it/iKRCh http://bitly.com/2YUiVPL http://bitly.com/2K3v9kR c10890c s13955v a6621d

  4. 27 May, 2019 12:56:12 PM wfopbihaynzq

    http://bitly.com/2YUiVPL http://135.it/KpTN2 http://135.it/O40A2 g7810p c11860p d11564c

  5. 27 May, 2019 11:45:31 AM gmptjsdtiweo

    http://bitly.com/2YP4YCp http://bitly.com/2YUiVPL http://bitly.com/2K6t0Fc h9928c j11793l d10024a

  6. 27 May, 2019 10:06:28 AM isplkwoemjjk

    http://bitly.com/2YP4YCp http://bitly.com/2HWCjVq http://bitly.com/2YUiVPL e12957m t12331e t13276z

  7. 27 May, 2019 08:51:38 AM hqersdxwtmej

    http://bitly.com/2K6t0Fc http://135.it/O40A2 http://bitly.com/2K3v9kR n10374o s13345q f7716f

  8. 27 May, 2019 04:03:47 AM watccpbzqrqd

    http://135.it/O40A2 http://bitly.com/2K3v9kR http://135.it/iKRCh s7380b k13764k a316p

  9. 27 May, 2019 02:05:40 AM unfnisnhbegb

    http://135.it/KpTN2 http://bitly.com/2YUiVPL http://bitly.com/2HWCjVq n9155i u6383l z4224x

  10. 27 May, 2019 12:05:16 AM czvasoewkmif

    http://bitly.com/2HWCjVq http://135.it/gzKRW http://135.it/O40A2 m7687b a3638r h6441b

Latest Posts