हम मनुष्य कर्मों से बंधे हुए हैं। अपने कर्म के अनुसार हमें उसका फल भी भोगना होता है। अच्छे कर्म का अच्छा फल मिलता है और अपराध के लिए दंड भी मिलता है। हमसे जाने अनजाने अपराध भी हो जाता। ईश्वर अपनी संतान का अपराध क्षमा करने देता है जब उसकी संतान अपराध मुक्ति के [...]

{ 7 comments }

प्रदोष व्रत (Pradosha vrata) कलियुग में अति मंगलकारी और शिव कृपा प्रदान करने वाला है। स्त्री अथवा पुरूष जो भी अपना कल्याण चाहते हों यह व्रत रख सकते हैं। प्रदोष व्रत  (Pradosha vrata) को करने से हर प्रकार का दोष मिट जाता है। सप्ताह के सातों दिन के प्रदोष व्रत का अपना विशेष महत्व है [...]

{ 47 comments }

व्रत महात्म्य: पाण्डु पुत्र युधिष्ठिर ने जब श्री कृष्ण से पूछा कि भगवन् वैसाख कृष्ण पक्ष की एकादशी को क्या कहते हैं और इस व्रत का क्या विधान एवं महत्व है तब श्री कृष्ण ने पाण्डु पुत्र सहित मानव कल्याण के लिए इस व्रत का वर्णन किया। श्री कृष्ण ने कहा है वैसाख कृष्ण पक्ष [...]

{ 4 comments }

द्वापर में जब श्री कृष्ण का जन्म हुआ तब उन्होंने मनुष्य को पाप कर्म के प्रभाव से मुक्ति दिलाने के लिए और उत्तम गति प्राप्त करने के लिए कई व्रत और विधि विधान को निर्माण किया. वे व्रत और विधियां कलियुग के इस समय में मुनुष्य के लिए अति कल्याणकारी हैं. जो मनुष्य पाप से [...]

{ 1 comment }

Navgrah Shanti Durga Pooja – नवग्रह शांति दुर्गा पूजा

December 24, 2008

अध्यात्मिक साधना के लिए जो लोग इच्छुक होते हैं वे लोग इन दिनों साधना रत रहते है.ग्रहों से पीड़ित व्यक्ति इन दस दिनों में ग्रह शांति भी कर सकते हैं यह इसके लिए उत्तम समय होता है. दुर्गा पूजा के साथ ग्रह शांति:(Durga Pooja Grah Shanti) माता दुर्गा ही सभी तंत्र और मंत्र की आधार [...]

Read the full article →

शनिवार के दिन शनि व्रत (Shani Dev Vrat )

December 24, 2008

शनि पक्षरहित होकर अगर पाप कर्म की सजा देते हैं तो उत्तम कर्म करने वाले मनुष्य को हर प्रकार की सुख सुविधा एवं वैभव भी प्रदान करते हैं। शनि देव की जो भक्ति पूर्वक व्रतोपासना करते हैं वह पाप की ओर जाने से बच जाते हैं जिससे शनि की दशा आने पर उन्हें कष्ट नहीं [...]

Read the full article →

कामदा एकादशी व्रत (Kamada Ekadashi Vrat)

December 24, 2008

कामदा एकादशी (Kamada Ekadashi) जिसे फलदा एकादशी (Falda Ekadashi) भी कहते हैं, श्री विष्णु का उत्तम व्रत कहा गया है। इस व्रत के पुण्य से जीवात्मा को पाप से मुक्ति मिलती है। यह एकादशी कष्टों का निवारण करने वाली और मनोनुकूल फल देने वाली होने के कारण फलदा (falda) और कामना kamna) पूर्ण करने वाली [...]

Read the full article →

वामन जयन्ती व्रतोपवास (Vaman Jayanti Vrat)

December 24, 2008

वामन अवतार (Vaman Avtar) पुराणों में लिखा है कि देव माता अदिति ने विष्णु जी की तपस्या की। तपस्या से प्रसन्न होकर भगवान ने उन्हें वरदान दिया कि वे अदिति के पुत्र के रूप में जन्म लेकर देवताओं को राजा बलि के भय से मुक्ति प्रदान करेंगे। इसी वरदान को पूरा करने के लिए भगवान [...]

Read the full article →

Arti Santoshi Ma – सन्तोषी माता की आरती

December 17, 2008
Thumbnail image for Arti Santoshi Ma –  सन्तोषी माता की आरती

जय सन्तोषी माता, मैया जय सन्तोषी माता । अपने सेवक जन की सुख सम्पति दाता । मैया जय सन्तोषी माता । सुन्दर चीर सुनहरी माँ धारण कीन्हो, मैया माँ धारण कींहो हीरा पन्ना दमके तन शृंगार कीन्हो, मैया जय सन्तोषी माता । गेरू लाल छटा छबि बदन कमल सोहे, मैया बदन कमल सोहे मंद हँसत [...]

Read the full article →

Ganesh jI ki Arti – गणेश जी की आरती

December 17, 2008

  जय गणेश जय गणेश जय गणेश देवा ।माता जाकी पार्वती पिता महादेवा ॥ एकदन्त दयावन्त चारभुजाधारी माथे पर तिलक सोहे मूसे की सवारी ।पान चढ़े फल चढ़े और चढ़े मेवालड्डुअन का भोग लगे सन्त करें सेवा ॥ अंधे को आँख देत कोढ़िन को काया बाँझन को पुत्र देत निर्धन को माया ।सूर श्याम शरण [...]

Read the full article →